Harshad Mehta Biography In Hindi – हर्षद मेहता की जीवनी

नमस्कार दोस्तों आजके हमारे इस लेख में आपको हम भारत के सबसे बड़े घोटालेबाज Harshad Mehta Biography की जानकारी से वाकिफ करने जा रहे है , स्टॉक मार्केट के सबसे बड़े खिलाडी के जीवन सफर की कहानी बताने वाले है। 

हमारे आजके इस लेख में harshad mehta family में रहने वाले jyoti mehta , और atur mehta कौन है ? harshad mehta property कितनी थी ?उनके जन्म से ले करके मृत्यु तक की सम्पूर्ण माहिती से आपको ज्ञात करवाने वाले है। उन्होंने अपने जीवनकाल में एक साधारण व्यक्ति से आमिर बनने की संघर्ष सफर कैसे पूरी की थी और किस तरह सभी बेंको को बेवकूफ बना दिया था। 

भारत देश की धरती पर कई जात और विचारो वाले इंसानो का जन्म हुआ है जो अपने बलबूते पर अपनी किस्मत को चमकाया करते है। 9 जुलाई 1954 के दिन हर्षद मेहता का जन्म जैन गुजराती परिवार मे हुआ था। रंगीला राजकोट शहर के पनेल मोटी गांव में जन्मे हर्षद मेहता का पूरा नाम हर्षद शांतिलाल मेहता था। तो चलिए आपको उनकी सभी माहिती से महितगार करवाते है।  

नाम हर्षद मेहता
उपनाम द बिग बुल
पूरा नाम हर्षद शांतिलाल मेहता
जन्म 29 जुलाई 1954
जन्म स्थल राजकोट, गुजरात, भारत
ऊंचाई 6.01 इंच
वजन 78 किग्रा
धर्म हिन्दू
पिता शांतिलाल मेहता
माता रसीलाबेन मेहता
पत्नी ज्योति मेहता
भाई अश्विन मेहता
बेटा आतुर मेहता
घर मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
स्कूल होली क्रॉस बेरोन बाज़ार सेकेंडरी हाइ स्कूल
कॉलेज लाला लाजपत राय कॉलेज
शिक्षा बी.कॉम
पेशा स्टॉक मार्केट ब्रोकर
संपत्ति 250 करोड़
मृत्यु 31 दिसंबर 2001
मृत्यु स्थल ठाणे सिविल अस्पताल
राष्ट्रीयता  भारतीय 

Harshad Mehta Biography In Hindi

वह 90 के दशक के सबसे बड़े घोटालेबाज कहे जाते है। उन्होंने तक़रीबन सिर्फ आठ साल की आयु में ही नोकरिया करना शुरू कर दिया था। फिरभी अपनी पढाई बी.कॉम तक प्राप्त की हुई थी। इसके पश्यात उन्होंने सेल्स मेन के रूप में न्यू इंडिया इन्स्योरेंस में अपना कार्य करने की शुरूआत करदी थी। अपनी नौकरी करते करते उन्होंने स्टॉक मार्केट के सभी राज जान लिए और बादशाह बन गए थे। 

इसे भी पढ़े :- टी नटराजन की जीवनी

Harshad Mehta Birth And Education

29 जुलाई 1954 के दिन जन्मे हर्षद मेहता का परिवार एक जैन परिवार और मूल रूप से गुजराती फेमिली थी। हर्षद मेहता का  जन्म होते ही उनका फेमिली मुंबई शहर मे रहने के लिए आ गए थे। Harshad Mehta Biography में  यह भी बतादे की उनका पूरा नाम हर्षद शांतिलाल मेहता था। उनका बालयकाल मुंबई शहर के कांदी वली में ही व्यतीत हुआ था। हर्षद मेहता ने अपनी प्राथमिक शिक्षा होली क्रॉस बेरोन बाज़ार सेकेंडरी हाइ स्कूल मुंबई से प्राप्त की हुई है।

उनके पश्यात लाला लाजपत राय कॉलेज मुंबई से अपने कॉलेज कल की पढाई पूर्ण करके बी.कॉम की डिग्री प्राप्त की हुई है। अपनी बी.कॉम की पसाधै चालू रखते हुए उनहोने कई नोकरिया भी की हुई है। सिर्फ और सिर्फ 8 वर्ष की साल में उन्होंने नौकरी चालू करदी थी। और अपनी पढाई पूर्ण करके उन्होंने सेल्स मेन के रूप में न्यू इंडिया इन्स्योरेंस कंपनी मे उन्होंने अपना कार्य शुरू किया था। harshad mehta lifestyle की बात करे तो एक लक्ज़री जिंदगी जी रहे थे। harshad mehta house मुंबई में उपस्थित है। 

हर्षद मेहता का परिवार –

हर्षद मेहता का परिवार के परिवार की बात करेतो उनके पिताजी का नाम शांतिलाल मेहता जो मुंबई के कांदिवली एरिया मे टेक्सटाइल के एक छोटे से व्यापारी हुआ करते थे। और माता का नाम रसीलाबेन मेहता है। harshad mehta wife का नाम ज्योति मेहता है। उसके भाई आश्विन मेहता उनके पार्टनर हुआ करते थे। harshad mehta children की जानकारी बताये तो harshad mehta son name आतुर मेहता है। ashwin mehta age हर्षद महेता से ज्यादा थी। harshad mehta son atur mehta भी शेर मार्किट के राजा कहे जाते है। 

इसे भी पढ़े :- शुभमन गिल की जीवनी

Harshad Mehta Career –

भारतीय स्टॉक मार्केट के बादशाह हर्षद मेहता एक दलाल थे। उन्होंने बी.कॉम की पढ़ाई प्राप्त करके छोटी नौकरी करना शुरू करदी थी। उसके पश्यात आखिर स्टॉक मार्केट के ब्रोकरेज फर्म मे वह सामील हो गए थे । वर्ष 1984 की साल में बॉम्बे स्टॉक मार्केट के दलाल का कार्य करना शुरू किया था। और ग्रोएमोर रिसर्च अँड एसेट फर्म की स्थापना कर दी थी। और उससे उनकी property भी बहुत ज्यादा हो चुकी थी। 

अपने फर्म की स्थापना करते ही 1984 से 1990 के वक्त तक उन्होंने अपनी कंपनी को बहुत उंचाइओ पर पंहुचा दिया था और लोकप्रिय भी बनादिया था। वह अपने तेज दिमाग की बदौलत अपने माइड पावर क वजह से Share market में बहुत ही पैसा कमाया था। अपने स्मार्ट वर्क की वजह से स्टॉक मार्केट में वह बहुत अच्छे खिलाडी बन चुके थे। इसके चलते लोग उन्हें Big Bull के नाम से जानने लगे है। 

Journey To Share Market Scam –

भारत देश के सभी घोटाले के बारे मे सभी को जानकारी प्राप्त होती ही है। ऐसी ही Harshad Mehta Biography में भी आपको हम आज बताने वाले है। harshad mehta scam की सम्पूर्ण जानकारी से आपक्को ज्ञात करवाएंगे। किसी भी बैंक से अगर आपको लोन लेनी होती है तो आपको रेफरेन्स की जरुरत पड़ती है।  ऐसे ही किसी बैंक से लोन लेनी पड़े तो दूसरे बैंक से लोन देने वाली बैंक को बॉन्ड देना होता है।

इस रीत को पूरा करने के लिए आपको एक दलाल को बिच में रखना बहुत ही आवश्यक होता है। वर्तमान समय के दौरान किसी भी प्रक्रिया को जल्द पूर्ण करना है तो एक दलाल का सहारा लेना जरूरी होता है। इस प्रक्रिया मे हर्षद मेहता दलाल रहा करता था और सभी ज़रूरियात वाली बेंको के जरिये उसके नकली बैंक रसीद बनाकर के दूसरी बेंकों को वे रसीद देकर ऐसे बेंकों से लोन के पैसे लेने लगा था।

इसी प्रक्रिया को करते उन्होंने अपना फायदा सोचना शुरू किया और ऐसे नन्हे नन्हे घोटालो को बड़े घोटालो में बदल के पैसे कमाने लगे थे। हर्षद मेहता बहुत ही चतुर और चालक इन्सान था उन्होंने सभी बेंको को बेवकूफ बना दिया था। कोई भी बैंक उन्होंने नहीं छोड़ी थी सभी बेंको से लोन लेके उस रुपयों को शेयर बाज़ार मे लगा दिया था। और सभी को बहुत ऊँचा ब्याजदार देने का भी वादा किया हुआ था।

लेकिन किस्मत सभी वक्त साथ नहीं दिया करती और उस समय में मंदी का माहौल शुरू हुआ और उनकी पतन का दरवाजा भी खुलने लगे थे। शेर मार्केट की मंदी के कारन हर्षद मेहता को सबसे ज्यादा घाटा हुआ और वह पहुंच नहीं पाए क्योकि वह एक दलाल थे। सभी लोन देने वाली बेंको ने अपना रूपया वापस मांगना शुरू कर दिया था। 

इसे भी पढ़े :- ईशा अंबानी की जीवनी

Scams Exposed Of Harshad Mehta  –

सोसियल मिडिया के जरिये सभी को पता चला था की हर्षद मेहता ने तक़रीबन 4000 करोड़ रुपये का घोटाला कर दिया था। हर्षद सिर्फ 15 दिनों के वक्त की ही लोन लिया करता था और वह रुपयों को शेर मार्केट में लगाडिया करता था। Harshad Mehta Biography के जरिये यह भी कहा जाता था की 15 दिनों में वह बैंक को उनके व्याज समेत पैसा वापस कर देता था। वह अपने पहचान का फायदा ज्यादा लिया करता था। क्योकि कोई भी बैंक अपने क्लायंट को 15 दिन का लोन नहीं दिए करती है और उसको दिया था।

हर्षद मेहता ने नकली बैंक रसीद बनवा करके  इसी रसीद से उन्होंने दूसरे बैंकों से पैसे उठाना शुरू किया था। और वह पैसे को शेयर बाजार में लगादीया था परिस्थिति ठीक चला करती थी तब तक तो सबके पैसे वक्त पर लौटा दिया करते थे लेकिन शेर मार्केट में मंदी की वजह से उनका पर्दाफाश हुआ और सभी का मुनाफा अटक गया था।

वह अपना बेईमानी का काम इतनी अच्छी तरह से किया करता था की किसी को कोई भी जानकारी नहीं हुई थी। वह सिर्फ और सिर्फ अपनीं कंपनी में ही पैसा लगा को कहा करते थे और एडवाइस भी देता था। harshad mehta case की जानकारी बताई जाते तो 600 सिविल चार्ज और 72 क्रिमिनल चार्ज हुए है। 

Harshad Mehta sentenced to jail –

सुचेता दलाल के घोटाले के खुलासे के पश्यात यह बात सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बन चूका था। इसी वजह को लेके उन्हें अदालत मे पेश किया गया था। अदालत ने अपनी सुनवाई यानि फैसला सुनाते हुए हर्षद मेहता और 6 साथी आरोपियों को 5000 करोड़ रुपये के घोटाला करने के जुर्म में सामील होने के कारन दोषी ठहराया था इसमें उनका भाई अश्विन मेहता भी शामिल था। harshad mehta net worth बहुत अच्छा था लेकिन उनकी सजा भी काम नहीं थी। 

उनको भारतीय CBI ने गिरफ्तार करके ठाणे जैल जेल में कैद करलिया था। हर्षद मेहता के ऊपर तक़रीबन 600 सिविल केस एव 72 क्रिमिनलचार्ज के केस दर्ज हुए है फिर भी सिर्फ 1 ही केस में सबूत मिल पाए थे। इस बड़े घोटाले में अपराधी होने के कारन हर्षद मेहता को 25 हजार जुर्माना और 5 साल की कैद सजा सुनाई गयी थी। 

इसे भी पढ़े :-  रकुल प्रीत सिंह की जीवनी

Harshad Mehta Death –

ख़राब कार्य कोई और करे और उनका आरोप किसी और पर लगा दिया जाता है वैसे ही हर्षद मेहता के सबसे बड़े घोटालों का आरोप भी कांग्रेस की सरकार पर लगाया था। उन्होंने कहा था की प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव को पार्टी फंड के लिए तक़रीबन एक करोड़ रुपए की घूस दी थी। और इसी खबर ने पुरे भारत में सनसनी मचा दी थी।

लेकिन कांग्रेस सरकार ने यह बात को गलत बताया था। हर्षद मेहता अपनी जेल की सजा काटते वक्त ही 31 दिसम्बर 2001 की श्याम को उनकी मौत हुई थी harshad mehta death reason सीने में दर्द  होने के कारन हर्षद मेहता को अस्पताल में भर्ती किया था लेकिन दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी। उनकी मौत रहस्यमय तरीके से हुई कहा जाता था। 

Harshad Mehta Web series  –

Harshad Mehta Movie Web Series भी बानी हुई है। हंसल मेहता नाम के प्रसिद्ध डायरेक्टर ने स्कैम  1992 नाम की फिल्म बनी हुई है। harshad mehta series में उनकी सम्पूर्ण जानकारी बताई हुई है। यह वेब सीरीज में भारत देश के बहुत बड़े आर्थिक घोटाले के बादशाह हर्षद मेहता की जीवनी बताई गयी है। इसका नाम द हर्षद मेहता स्टोरी के नाम से प्रचलित हुई थी।

Life Style Video –

Harshad Mehta Interesting Facts –

  • 1993 की साल में पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिम्हा राव और उस वक़्त कांग्रेस के अध्यक्ष पर केस से बचाने के लिए 1 करोड़ घूस लेने का आरोप लागया हुआ था।
  • Harshad Mehta Biography में आपको बतादे की 1990 की साल में हर्षद मेहता का नाम बड़े मैगजीन एव अखबार के कवर पेज पर आने लगा था । हर्षद मेहता का नाम स्टॉक मार्केट में बड़े अदब से लिया जाने लगा था । हर्षद मेहता के 15500 स्कॉयर फीट के सी फेसिंग पेंट हाउस से लेकर उनकी मंहगी गाड़ियों के शौक तक सबने उन्हें एक सेलिब्रिटी बना दिया था। 
  • वर्ष 1992 में टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार सुचेता दलाल ने हर्षद मेहता के सबसे बड़ा घोटाले का पर्दाफाश किया था उन्होंने बताया था की हर्षद मेहता बैंक से एक 15 दिन का लोन लेता था और उसे स्टॉक मार्केट में लगा देता था।
  • हर्षद मेहता के पास लक्जरी गाड़ियों का पूरा काफिला था इस हर्षद मेहता ने प्रधानमंत्री पर रिश्वत लेने का आरोप भी लगा दिया था। उनकी कहानी गुजराती  के वह लड़के की कहानी है जो जेब तो खाली थी मगर सपने बहुत भारी देख चूका था। उनका ख्वाब दौलत की उस ऊंचाई को छूने लेने था जो कोई पहुंच नहीं पाया था इतने रुपये मानना चाहता था। 
  • हर्षद मेहता के तेजी से बढ़ते हुए घोटालो के कारन ही उनपर 72 अपराध के आरोप के केश लगाए गए, और इतना पश्यात उनपर 500से लेके 600 से सिविल एक्शन शूट दर्ज किए गए थे ।

इसे भी पढ़े :- धनुष (अभिनेता) की जीवनी

Questions –

1 .अब हर्षद मेहता कहां हैं?

हर्षद मेहता अब इस दुनिया में नहीं रहे है लेकिन उनके भाई अश्विन मेहता ने जो एक वकील बनके आज उच्चतम न्यायालय में भी अभ्यास करने वाले एक व्यस्त वकील हैं। उन्होंने कई अदालतों के मुकदमे अकेले ही लड़े और अपने भाई का नाम साफ करने के लिए बैंकों को लगभग 1,700 करोड़ की भरपाई करदी है। 

2 .क्या बाजार हर्षद मेहता पर आधारित है?

नहीं वर्तमान समय 2021 की साल में बाजार उनके पर निर्भर नहीं है लेकिन 90 के दशक में बाजार में अपना दबदबा बनाया और अपने वित्तीय अपराधों से काफी व्यक्तिगत लाभ कमाया

3 .क्या हर्षद मेहता अभी भी जीवित हैं?

नहीं उनकी मौत हो चुकी है। जेल में ही उनको सीने में दर्द की वजह से उनकी मृत्यु हो चुकी है। 31 दिसम्बर 2001 की श्याम को उनकी मौत हुई थी

4 .क्या हर्षद मेहता परिवार के पास पैसा है?

हां उसके परिवार के पास बहुत ही पैसा है क्योकी उन्होंने करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी की। बैंकिंग प्रणाली को लगभग 3,500 करोड़ से 4,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। जब यह घोटाला उजागर हुआ था। 

5 .किस उम्र में हर्षद मेहता की मृत्यु हुई?

हर्षद मेहता की मृत्यु 1 दिसम्बर 2001 के रात के समय पर हुई थी। तब उनकी उम्र 47 वर्ष थी। 

6 .हर्षद मेहता का नेट वर्थ क्या है?

ऐसा माना जाता है कि उसके भाई अश्विन ने अपने भाई का नाम साफ करने के लिए अकेले लड़ाई लड़ी और सभी ऋणों और एनपीए को समाप्त करने के लिए बैंकों को लगभग 1700 करोड़ का भुगतान किया।

7 .क्या हर्षद मेहता पुत्र है?

हां हर्षद मेहता को एक बेटा भी है जिसका नाम आतुर मेहता है।

8 .हर्षद मेहता जेल में क्यों थे?

हर्षद मेहता और उनके भाई अश्विन मेहता को तीन महीने तक जेल में रखा गया था बाद उन्होंने संकेत दिया कि प्रतिभूति घोटाला एक बड़े विवाद का हिस्सा हो सकता है।

9 .कौन हैं हर्षद मेहता पत्नी?

हर्षद मेहता पत्नी का नाम ज्योति मेहता है। 

10 . हर्षद मेहता के पिता कौन थे?

उनके पिता का नाम का नाम शांतिलाल मेहता जो मुंबई के कांदिवली एरिया मे टेक्सटाइल के एक छोटे से व्यापारी हुआ करते थे। और माता का नाम रसीलाबेन मेहता है।

इसे भी पढ़े :- हर्ष बेनीवाल की जीवनी

निष्कर्ष – 

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको मेरा यह आर्टिकल Harshad Mehta Biography पूरी तरह से समज आ गया होगा। इस लेख के द्वारा हमने harshad mehta brother ashwin mehta की भी जानकारी दे दी है अगर आपको इस तरह के अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है। और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Sorry Bro