Samudragupta Biography In Hindi – समुद्र्गुप्त की जीवनी

नमस्कार मित्रो आज के हमारे लेख में आपका स्वागत है आज हम Samudragupta Biography In Hindi में आपको गुप्त राजवंश के महान राजा समुद्रगुप्त का जीवन परिचय से ज्ञात कराने वाले है। 

इस महान राजा  को गुप्त राजवंश के चौथे महान राजा माने जाते है , चन्द्रगुप्त पहले के दूसरे अधिकारी पाटलिपुत्र समुद्रगुप्त के साम्राज्य की राजधानी मानी जाती है । वे वैश्विक इतिहास में सबसे बड़े और सफल सेनानायक एवं सम्राट कहा जाता है। आज samudragupta history in hindi में आपको samudragupta wife , samudragupta son name और samudragupta achievements से सबंधित जानकारी देने वाले है। ऐसा कह सकते है की आज हम समुद्रगुप्त भारत का नेपोलियन की कहानी बताने वाले है 

समुद्रगुप्त का शासनकाल भारत के लिये सोने का ( स्वर्णयुग ) की शुरूआत कही जाती है ,और समुद्रगुप्त को गुप्त राजवंश का महान राजा माना जाता है। समुद्रगुप्त को एक महान शासक, वीर योद्धा माना जाता है और तो और समुद्रगुप्त को कला के संरक्षक भी माना जाता है । उनका नाम जावा पाठ में तनत्रीकमन्दका के नाम से प्रकट है। Samudragupta का नाम समुद्र की चर्चा करते हुए और अपने विजय अभियान की वजह से रखा गया था और उसका अर्थ होता है।”महासागर”। समुद्रगुप्त के बहुत भाई थे, फिर भी उनके पिता ने समुद्रगुप्त की प्रतिभा के देख कर उन्हें अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था ।

Table of Contents

Samudragupta Biography In Hindi –

नाम

समुद्रगुप्त

उपनाम

तनत्रीकमन्दका

पिता

चन्द्रगुप्त प्रथम

माता

कुमारादेवी

पुत्र

चंद्रगुप्त द्वितीय

पत्नी

दत्तदेवी

समुद्र्गुप्त की जीवनी – 

चंद्रगुप्त की मृत्यु के बाद, उनकी राजगादी के लिये संघर्ष हुआ जिसमें समुद्रगुप्त एक प्रबल दावेदार बन कर उभरे। कहा जाता है कि समुद्रगुप्त ने राज्य पर अपना शासन करने के लिये अपने प्रतिद्वंद्वी अग्रज राजकुमार काछा को युद्ध में हराया था समुद्रगुप्त का नाम सम्राट अशोक के साथ जोड़ा जा रहा है माना की वो दोनो एक-दूसरे के बहुत ही करीब थे । और वो एक अपने विजय अभियान के लिये जाने जाते थे और दूसरे अपने धुन के लिये जाने जाते थे। समुद्र्गुप्त को भारत के महान शासक जाता हे समुद्र्गुप्त ने अपने जीवन काल के दौरान कभी भी हार नहीं मानी थी । वि.एस स्मिथ के द्वारा उन्हें भारत के नेपोलियन की संज्ञा दी गई थी। 

समुद्रगुप्त का शासनकाल –

चंद्रगुप्त को मगध राज्य के महान राजा और गुप्त वंश के पहले शासक माने जाते है उन्होने एक लिछावी राजकुमारी, कुमारिदेवी के साथ उन्होंने विवाह कर लिया था और उनकी वजह से उन्हे गंगा नदी के तटीय जगहो पर एक पकड़ मिला जो उत्तर भारतीय वाणिज्य का मुख्य स्रोत माना गया था। उन्होंने लगभग दस वर्षों तक एक प्रशिक्षु के रूप में बेटे के साथ उत्तर-मध्य भारत में शासन किया और उन्की राजधानी पाटलिपुत्र, भारत का बिहार राज्य, जो आज कल पटना के नाम से जाना जाता है। पिता की मृत्यु के बाद ,समुद्रगुप्त ने राज्य शासन संभाला था और उन्होने शायद पूरे भारत पर विजय प्राप्त करने के बाद ही आराम ग्रहण किया था

समुद्रगुप्त का शासनकाल, एक विशाल सैन्य अभियान के रूप में वर्णित किया। हुवा माना जाता है शासन शुरू करने के साथ उन्होने मध्य भारत में रोहिलखंड और पद्मावती के पड़ोसी राज्यों पर हमला किया। उन्होंने बंगाल और नेपाल के कुछ राज्यों के पर विजय प्राप्त की और असम राज्य को शुल्क देने के लिये विवश किया। उन्होंने कुछ आदिवासी राज्य मल्वास, यौधेयस, अर्जुनायस, अभीरस और मधुरस को अपने राज्य में विलय कर लिया। अफगानिस्तान, मध्य एशिया और पूर्वी ईरान के शासक, खुशानक और सकस भी साम्राज्य में शामिल कर लिये गए।

इनके बारे में भी जानिए :- दुर्गाबाई देशमुख की जीवनी

समुद्रगुप्त का वैवाहिक गठबंधन –

राजा समुद्रगुप्त के शासनकाल की सबसे अच्छी घटना वकटका राजा रुद्रसेन दूसरे की और पश्चिमी क्षत्रपों के रूप में शक राजवंश के जरिये सदियों से शासन करते आये थे और जो काठियावाड़ के सौराष्ट्र की प्रायद्वीप के पराजय के साथ अपने वैवाहिक गठबंधन में बंधा था। लग्न के गठजोड़ गुप्तों की परदेशी नीति में एक मुख्य अच्छा स्थान रखा है । समुद्रगुप्त के गुप्तो ने लिछवियो से लग्न गठबंधन कर बिहार में समुद्रगुप्त ने अपनी स्थिति को मजबूत किया था। 

समुद्रगुप्त ने पड़ोसी राज्यों से उपहार स्वीकार कर लिये थे। एक ही उद्देश्य के साथ, चन्द्रगुप्त द्वितीय नागा राजकुमारी कुबेर्नगा से शादी की और वकटका राजा से शादी में अपनी बेटी, प्रभावती, रुद्र शिवसेना द्वितीय दे दी है।यह समुद्रगुप्त का एक रणनीतिक स्थिति पर अपना राज जमा लिया था जो वकटका राजा के अधीनस्थ गठबंधन सुरक्षित रूप वकटका गठबंधन कूटनीति के मास्टर स्ट्रोक था।

यह रुद्र शिवसेना जवान मारे गए और उसके बेटे की उम्र के लिए आया था, जब तक उसकी विधवा शासनकाल में उल्लेखनीय है डेक्कन के अलग अलग राजवंशों की भी गुप्ता शाही परिवार में उन्होंने विवाह कर लिया था । समुद्रगुप्त गुप्त, इस तरह अपने डोमेन के दक्षिण में मैत्रीपूर्ण संबंधों की भी रचना की है यह भी चन्द्रगुप्ता दूसरे के दक्षिण-पश्चिम की ओर विस्तार के लिए कमरे की तलाश के लिए पसंद करते हैं समुद्रगुप्त के दक्षिणी रोमांच का नवीनीकरण नहीं किया है कि इसका मतलब है।

समुद्रगुप्त गुप्त वंश का उत्तराधिकारी – Samudragupta Gupta Dynasty

चंद्रगुप्त पहले के बाद समुद्रगुप्त मगध के सिंहासन पर विराज मान हुवा था । चंद्रगुप्त के अपने पुत्र थे। पर गुण और साहस में समुद्रगुप्त सबसे उत्तम था। लिच्छवी कुमारी श्रीकुमारदेवी का पुत्र होने के कारण भी उसका विशेष महत्त्व था। चंद्रगुप्त ने उसे ही अपना दूसरा अधिकारी चुना था। 

और अपने इस निर्णय को राज्यसभा बुलाकर सभी सभ्यों के सम्मुख उद्घोषित किया। यह करते हुए प्रसन्नता के कारण उसके सारे शरीर में रोमांच हो आया था, और आँखों में आँसू आ गए थे। उसने सबके सामने समुद्रगुप्त को गले लगाया, और कहा – ‘तुम सचमुच आर्य हो, और अब राज्य का पालन करो।’ इस निर्णय से राज्यसभा में एकत्र हुए सब सभ्यों को प्रसन्नता हुई।

सम्राट समुद्रगुप्त के गुण और चरित्र –

सम्राट समुद्रगुप्त के वैयक्तिक गुणों और चरित्र के बारे मे प्रयाग की प्रशस्ति में बड़े अच्छे और सुंदर पाये जाते हैं। इसे महादण्ड नायक ध्रुवभूति के पुत्र, संधिविग्रहिक महादण्डनायक हरिषेण ने तैयार किया था। हरिषेण के शब्दों में समुद्रगुप्त का चरित्र इस प्रकार का था ‘उसका मन विद्वानों के सत्संग-सुख का व्यसनी था। उसके जीवन में सरस्वती और लक्ष्मी का अविरोध था।

वह वैदिक मार्ग का अनुयायी था। उसका काव्य ऐसा था, कि कवियों की बुद्धि विभव का भी उससे विकास होता था, यही कारण है कि उसे ‘कविराज’ की उपाधि दी गई थी। ऐसा कौन सा ऐसा गुण है, जो उसमें नहीं था। सैकड़ों देशों में विजय प्राप्त करने की उसमें अपूर्व क्षमता थी। अपनी भुजाओं का पराक्रम ही उसका सबसे उत्तम साथी था। परशु, बाण, शंकु, शक्ति आदि अस्त्रों-शस्त्रों के सैकड़ों घावों से उसका शरीर सुशोभित था।

  • समुद्रगुप्त का सूत्र

समुद्रगुप्त के इतिहास का सबसे अच्छा स्रोत, वर्तमान इलाहाबाद की बाजु में, कौसम्भि में पहाड़ो में शिलालेखों में से एक बहुत ही अच्छा शिलालेख है। इस शिलालेख में समुद्रगुप्त के विजय अभियानों का विवरण दिया गया है। इस शिलालेख पर लिखा है, “जिसका खूबसूरत शरीर, युद्ध के कुल्हाड़ियों, तीरों, भाले, बरछी, तलवारें, शूल के घावों की सुंदरता से भरा हुआ है।

यह शिलालेख भारत के राजनीतिक भूगोल की वजह से भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसमें विभिन्न राजाओं और लोगों का नाम अंकित है, जोकि चौथी शताब्दी के शुरूआत में भारत में मौजुद थे। इसमें समुद्रगुप्त के जित के अभियान पर लिखा गया है और तो और उसके लेखक हरिसेना को माना गया हुवा है जो समुद्रगुप्त के दरबार के सबसे महत्वपूर्ण महान कवि माने जाते थे । समुद्रगुप्त जहाँ उत्तर भारत के एक महान शासक एवं दक्षिण में उनकी पहुँच को स्वयं दक्षिण के राजा भी बराबर नहीं कर पाते थे ।

  • समुद्रगुप्त का सिक्का –

समुद्रगुप्त का ज्यादा उसे और शिलालेख के जरिये जारी किए गए उनके सिक्कों के माध्यम से समुद्रगुप्त के बारे में जाना जाता है। और इस आठ अलग अलग प्रकार के थे और सभी को शुद्ध सोने का बना दिया गया था । अपने विजय अभियान उसे सोने और भी कुषाण के साथ अपने परिचित से सिक्का बनाने विशेषज्ञता लाया।

बहुत ही शांति के रूप से, समुद्रगुप्त गुप्ता की मौद्रिक प्रणाली का पिता माना जाता है। समुद्रगुप्त ने बताया और कहा कि सिक्कों की अलग अलग प्रकार की शरुआत की थी । वे मानक प्रकार, आर्चर प्रकार, बैटल एक्स प्रकार, प्रकार, टाइगर कातिलों का प्रकार, राजा और रानी के प्रकार और वीणा प्लेयर प्रकार के रूप में जाने जायेगे वो तकनीकी और मूर्तिकला की चालाकी के लिए एक अच्छी गुणवत्ता का प्रदर्शन करते हुए सिक्कों की कम से कम तीन प्रकार की शरुआत की थी

1. आर्चर प्रकार, 2.लड़ाई-कुल्हाड़ी और 3. टाइगर प्रकार – मार्शल कवच में समुद्रगुप्त का प्रतिनिधित्व कीया था जैसे विशेषणों वीरता,घातक लड़ाई-कुल्हाड़ी,बाघ असर coins of samudragupta, उसकी एक कुशल योद्धा जा रहा है साबित होते हैं। सिक्कों की समुद्रगुप्त के प्रकार वह प्रदर्शन किया बलिदान और उसके कई जीत और दर्शाता है।

इनके बारे में भी जानिए :- शांति स्वरूप भटनागर की जीवनी

समुद्रगुप्त और सिंहल से सम्बन्ध – (achievements of samudragupta)

समुद्रगुप्त के इतिहास की बहुत सारी बातो का भी उदभव किया हुवा है । इस समय में सीलोन का महान राजा मेघवर्ण था। और राजा मेघवर्णशासन के काल में दो बौद्ध-भिक्षु बोधगया की तीर्थयात्रा के लिए आए थे। वहाँ पर उनके रहने के लिए समुचित प्रबन्ध नहीं था। जब वे अपने देश को वापिस चले गए  तो समुद्रगुप्त ने इस विषय में अपने राजा मेघवर्ण से शिकायत की। मेघवर्ण ने निश्चय किया, कि बोधगया में एक बौद्ध-विहार सिंहली यात्रियों के लिए बनवा दिया जाए।

इसकी अनुमति प्राप्त करने के लिए उसने एक दूत-मण्डल समुद्रगुप्त की सेवा में भेजा। समुद्रगुप्त ने बड़ी प्रसन्नता से इस कार्य के लिए अपनी अनुमति दे दी, और राजा मेघवर्ण ने ‘बौधिवृक्ष’ के उत्तर में एक विशाल विहार का निर्माण करा दिया। जिस समय प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्यू-त्सांग बोधगया की यात्रा के लिए आया था, यहाँ एक हज़ार से ऊपर भिक्षु निवास करते थे।

समुद्रगुप्त का वैदिक धर्म और परोपकार –

समुद्रगुप्त को ब्राह्मण धर्म के ऊपर से धारक था । लेकिन धर्म के कारण अपनी सेवाओं को इलाहाबाद के शिलालेख और उसके लिए ‘धर्म-बंधु’ की योग्यता शीर्षक का उल्लेख है। लेकिन उन्होंने कहा कि अन्य धर्मों के प्रति असहिष्णु नहीं था। उनका बौद्ध विद्वान वसुबन्धु को संरक्षण और महेंद्र के अनुरोध की स्वीकृति, बोधगया में एक बौद्ध मठ का निर्माण करने के सीलोन के राजा कथन से वह अन्य धर्मों का उन्होंने साबित किया था ।

उसे (परिवहन) मकर (मगरमच्छ) के साथ मिलकर लक्ष्मी और गंगा के आंकड़े असर अन्य सिक्कों के साथ सिक्कों का समुद्रगुप्त को प्रकार ब्राह्मण धर्मों में अपने विश्वास में गवाही देने के लिए दिया गया था । समुद्रगुप्त धर्म की सच्ची भावना आत्मसात किया था और उस कारण के लिए, वह इलाहाबाद शिलालेख में (करुणा से भरा हुआ) के रूप में वर्णित किया गया है। उन्होंने कहा, ‘गायों के हजारों के कई सैकड़ों के दाता के रूप में’ वर्णित किया गया है।

Samudragupta Victory – (समुद्रगुप्त की विजय)

समुद्रगुप्त ने उत्तर और दक्षिण के अपना साम्राज्य ज़माने के लिये रणनीतिक योजनाओं को अपनाया। दूर के अभियानों को अपना ने से पहले, उसने पहले पड़ोसी राज्यों को अपने अधीन करने का निणर्य किया किया था ।समुद्रगुप्त के आक्रमणों में तीन अलग-अलग चरण देखने को मिलते है, मतलब आर्यावर्त में उनका पहला अभियान, दक्षिणापथ में समुद्रगुप्तका अभियान और आर्यावर्त में उसका दूसरा अभियान मन ।

उनके आक्रमणों और विजय के अलावा, समुद्रगुप्त ने भी अटाविका या वन राज्यों पर विजय प्राप्त की। उन्होंने गुप्त साम्राज्य के मोर्चे पर स्थित राज्यों के साथ राजनयिक संबंध भी स्थापित किए थे उन्होंने , अंत में, दूर की विदेशी शक्तियों के साथ राजनीतिक वार्ता का आदान-प्रदान किया। पुरे उत्तर भारत में उनके सबसे अच्छे पहले अभियान में, समुद्रगुप्त ने तीन राजाओं को हराया और उन तीनो राजा ओ का साम्राज्य छीन लिया।

और वे थे, अच्युता नागा, नागा सेना और गणपति नागा। ये नागा राजा शायद गुप्तों के खिलाफ एकजुट होकर काम करते थे और समुद्रगुप्त के लिए खतरे का एक स्रोत थे। उन्होंने क्रमशः अहिच्छत्र, पद्मावती, और मथुरा के राज्यों में शासन किया। उनके साथ पहली मुठभेड़ में गुप्त सम्राट ने उसे दिखने के लिए विवश किया था । और वह उत्तर में उनके सेकंड अभियान में था, कि कुछ नए इंसान के साथ ये राजा पूरी तरह से समाप्त हो गए थे। तीन उत्तरी शक्तियों पर अपनी विजय के बाद, समुद्रगुप्त ने दक्खन में अपना अभियान शुरू किया। अपने दक्षिणी अभियानों के दौरान उन्होंने बारह राजकुमारों के रूप में कई विनम्रता दिखाई। 

समुद्रगुप्त का मथुरा पर विजय –

समुद्रगुप्त की विजय का वर्णन में जीते गये राज्यों में मथुरा भी था, समुद्रगुप्त ने मथुरा राज्य को भी अपने कब्जे में ले लिया था और मथुरा के राजा गणपति नाग को समुद्रगुप्त हराया था। उस समय में पद्मावती का नाग शासक नागसेन था,जिसका नाम प्रयाग-लेख में भी आता है। इस शिलालेख में नंदी नाम के एक राजा का नाम भी है। वह भी नाग राजा था और विदिशा के नागवंश से था। समुद्रगुप्त के समय में गुप्त साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र थी। इस साम्राज्य को उसने कई राज्यों में बाँटा।

राजा समुद्रगुप्त के विरोधी राजाओं के उलेख से पता चलता है गंगा-यमुना को आखिर कार दोआब ‘अंतर्वेदी’ विषय के नाम से पहचाना जात है । स्कन्दगुप्त के शाशन काल में अंतर्वेदी का शासक ‘शर्वनाग’ था ऐसा उल्लेख किया गया है । इस के पूर्वज भी इस राज्य के राजा रहे होंगे। सम्भवः समुद्रगुप्त ने मथुरा और पद्मावती के नागों की शक्ति को देखते हुए उन्हें शासन में उच्च पदों पर रखना सही समझा हो।

समुद्रगुप्त ने यौधेय, मालवा, अर्जुनायन, मद्र आदि प्रजातान्त्रिक राज्यों को कर लेकर अपने अधीन कर लिया। दिग्विजय के पश्चात् समुद्रगुप्त ने एक अश्वमेध यज्ञ भी किया। यज्ञ के सूचक सोने के सिक्के भी समुद्रगुप्त ने चलाये। इन सिक्कों के अतिरिक्त अनेक भाँति के स्वर्ण सिक्के भी मिलते है।

इनके बारे में भी जानिए :- जयंत विष्णु नार्लीकर की जीवनी

समुद्रगुप्त की अधीनता –

उनके पश्यात समुद्रगुप्त को युद्धों की आवश्यकता की नहीं हुई। इन विजयों से उसकी धाक ऐसी बैठ गई थी, कि अन्य प्रत्यन्त नृपतियों तथा यौधेय, मालव आदि गणराज्यों ने स्वयमेवअपनी अधीनता स्वीकृत कर ली थी। ये सब कर देकर, आज्ञाओं का पालन कर, प्रणाम कर, तथा राजदरबार में उपस्थित होकर सम्राट समुद्रगुप्त की अधीनता स्वीकृत करते थे। इस प्रकार करद बनकर रहले वाले प्रत्यन्त राज्यों के नाम हैं। 

समतट या दक्षिण-पूर्वी बंगाल –

  • कामरूप या असम
  • नेपाल
  • डवाक या असम का नोगाँव प्रदेश
  • कर्तृपुर या कुमायूँ और गढ़वाल के पार्वत्य प्रदेश।
  • निःसन्देह ये सब गुप्त साम्राज्य के प्रत्यन्त या सीमा प्रदेश में स्थित राज्य थे।

समुद्रगुप्त के साम्राज्य का विस्तार –

समुद्रगुप्त का प्रत्यक्ष प्रशासन साम्राज्य कि तरह व्यापक था। और यहाँ पर शायद पूरा उत्तर भारत शामिल था। उनके पश्यात यहाँ पर पश्चिमी पंजाब, पश्चिमी राजपुताना, सिंध, गुजरात और उड़ीसा गुप्त साम्राज्य भी शामिल नहीं थे। उसके बावजूद भी यहाँ का साम्राज्य विशाल था। पूर्व में, यह ब्रह्मपुत्र नदी के रूप में दूर तक विस्तारित था।

दक्षिण में, यह नर्मदा नदी को छू गया। उत्तर में, यह हिमालय तक पहुँच गया। ठीक ही इतिहासकार वीए स्मिथ ने समुद्रगुप्त के क्षेत्र और शक्ति कहने की सीमा को भी बताया है समुद्रगुप्त की चौथी शताब्दी की सरकार के बहुत ही अच्छे प्रभुत्व इस तरह भारत के सबसे अहम् आबादी वाले और उपजाऊ देशों में शामिल था।

यह पूर्व में ब्रह्मपुत्र से लेकर पश्चिम में जमुना और चंबल तक फैला हुआ था। उत्तर में हिमालय के पैर से लेकर दक्षिण में नर्मदा तक। ऐसे विस्तृत सीमाओं से पुरे, असम और गंगा के डेल्टा के साथ हिमालय और दक्षिणी ढलानों पर राजपुताना और मालवा की मुक्त जनजातियों के गठबंधन के समर्थन के बंधन द्वारा साम्राज्य से जुड़े थे।

दक्षिण को सम्राट की सेनाओं द्वारा उखाड़ फेंका गया था और अपनी अदम्य ताकत को स्वीकार करने के लिए मजबूर किया गया था। इस प्रकार परिभाषित किया गया साम्राज्य अब तक का सबसे बड़ा था जो कि अशोक के छह शताब्दियों पहले के दिनों से भारत में देखा गया था और इसका अधिकार स्वाभाविक रूप से समुद्रगुप्त को विदेशी शक्तियों के सम्मान के लिए मिला था। 

Samrat Samudragupta History Hindi – 

Samudragupta का विदेशी शक्तियों से संबंध –

समुद्रगुप्त ने सिर्फ गुप्त साम्राज्य की सरहद पर अपनी सीमावर्ती राज्यों की और गणराज्यों को अपने वश में कर लिया, और तो और साम्राज्य के बाहर की फोरेन का साम्राज्य के मन में भी भय पैदा कर दिया। पश्चिम और उत्तर-पश्चिम की शक्तियों के साथ-साथ दक्षिण में जैसे सिम्हाला या सीलोन के साम्राज्य ने गुप्त सम्राट को विभिन्न तरीकों से उनके सम्मान का भुगतान किया।

इलाहाबाद स्तंभ शिलालेख ऐसी सेवाओं को संदर्भित करता है जैसे व्यक्तिगत संबंध, मासिक सेवा के लिए युवतियों के उपहार और भेंट समुद्रगुप्त के बहुत करीब संबंधों के प्राप्त करने की भी अपील की, इंपीरियल गुप्ता गरुड़ सील को आकर्सन करते हुए, उनके लिए अपने देश के रूप में मैत्रीपूर्ण देशों पर शासन करने की गारंटी का संकेत दिया। Samudragupta ने अपनी इच्छाओं को दोस्ताना तरीके से स्वीकार किया।

उन फोरेन की ताकत के बीच जो दोस्ती जैसे संबंधों की दिष्या में आते थे, काबुल घाटी में बाद के कुषाण शासक थे, जो अब भी खुद को दैवपुत्र-शाही-शाहानुशाही के रूप में स्टाइल करना जारी रखते थे। सुदूर उत्तर-पश्चिम में शक शासक भी थे जिन्होंने Samudragupta का पक्ष लिया था।

समुद्रगुप्त का भारतवर्ष पर एकाधिकार –

समुद्रगुप्त का शाशन काल भारतीय इतिहास में `दिग्विजय` नाम के जित की खुशी के लिए विख्यात माना जाता ना है Samudragupta ने मथुरा और पद्मावती के नाग राजाओं को पराजित कर उनके राज्यों को अपने अधिकार में ले लिया। उसने वाकाटक राज्य पर विजय प्राप्त कर उसका दक्षिणी भाग, जिसमें चेदि, महाराष्ट्र राज्य थे, वाकाटक राजा रुद्रसेन के अधिकार में छोड़ दिया था।

उसने पश्चिम में अर्जुनायन, मालव गण और पश्चिम-उत्तर में यौधेय, मद्र गणों को अपने अधीन कर, सप्तसिंधु को पार कर वाल्हिक राज्य पर भी अपना शासन स्थापित किया। समस्त भारतवर्ष पर एकाधिकार क़ायम कर उसने `दिग्विजय` की। समुद्र गुप्त की यह विजय-गाथा इतिहासकारों में ‘प्रयाग प्रशस्ति` के नाम से जानी जाती है।

समुद्रगुप्त का अश्वमेध यज्ञ –

पुरे भारत में अबाधित राज किया था और बहुत बड़ी जित को ख़त्म कर के Samudragupta ने अश्वमेध यज्ञ का आयोजान किया और यज्ञ में विराज मान हुई थे । शिलालेखों में उसे ‘चिरोत्सन्न अश्वमेधाहर्ता’ और ‘अनेकाश्वमेधयाजी’ कहा गया है।Samudragupta ने अश्वमेधो में केवल एक पुरानी परिपाटी का ही उलेख नहीं किया बल्की इस अवसर से बेनिफिट लेकर कृपण, दीन, अनाथ और आतुर लोगों को भरपूर सहायता देकर उनके उद्धार का भी प्रयत्न किया गया था।

प्रयाग की प्रशस्ति में इसका बहुत स्पष्ट संकेत है। समुद्रगुप्त के कई सिक्कों में अश्वमेध यज्ञ का भी चित्र बताया गया है। samudragupta coins अश्वमेध यज्ञ के उपलक्ष्य में ही जारी किया गया था। Samudragupta के सिक्कों में एक तरफ़ जहाँ यज्ञीय अश्व का चित्र है, और वहीं दूसरी तरफ़ अश्वमेध की भावना को इन सुन्दर शब्दों में प्रकट किया गया है  ‘राजाधिराजः पृथिवीमवजित्य दिवं जयति अप्रतिवार्य वीर्य राजाधिराज पृथ्वी को जीतकर अब स्वर्ग की जय कर रहा है, उसकी शक्ति और तेज़ अप्रतिम है। 

इनके बारे में भी जानिए :- नरेंद्र मोदी की जीवनी

Samudragupta का प्रशस्ति गायन –

भारत के दक्षिण एवंम पश्चिम के बहुत से राजा Samudragupta के अस्तित्व में थे, और उसे बहुत ही अच्छे भेट पहुंचाकर उन्हें खुश रखते थे। और ऐसे तीन महान राजाओं का तो समुद्रगुप्त प्रशस्ति में उल्लेख भी किया गया है।ये ‘देवपुत्र हिशाहानुशाहि’, ‘शक-मुरुण्ड’ और ‘शैहलक’ हैं। दैवपुत्र शाहानुशाहि से कुषाण राजा का अभिप्राय है। शक-मुरुण्ड से उन शक क्षत्रपों का ग्रहण किया जाता है,

जिनके अनेक छोटे-छोटे राज्य इस युग में भी उत्तर-पश्चिमी भारत में विद्यमान थे। उत्तरी भारत से भारशिव, वाकाटक और गुप्त वंशों ने शकों और कुषाणों के शासन का अन्त कर दिया था। पर उनके अनेक राज्य उत्तर-पश्चिमी भारत में अब भी विद्यमान थे। सिंहल के राजा को सैहलक कहा गया है। इन शक्तिशाली राजाओं के द्वारा Samudragupta का आदर करने का प्रकार भी प्रयाग की प्रशस्ति में स्पष्ट रूप से लिखा गया है।

समुद्रगुप्त का एक अनुमान –

Samudragupta ने बिना भरोशा किये भारतीय हिस्टरी के सबसे महान राजा में से एक है समुद्रगुप्त ने एक सैनिक,और योद्धा संस्कृति के संरक्षक के रूप में, वह भारत के शासकों के बीच प्रतिष्ठित है। कुछ लोग उन्हें गुप्त वंश का सबसे बड़ा सम्राट मानते हैं। समुद्रगुप्त की महानता भारत के एकीकरण के लिए एक योद्धा के रूप में Samudraguptaकी साहसी भूमिका में थी। इस संबंध में, उन्होंने चंद्रगुप्त मौर्य samudragupta maurya की भूमिका को दोहराया।

वह भारत के उपमहाद्वीप के एक बड़े हिस्से पर एक शाही सत्ता के राजनीतिक आधिपत्य को स्थापित करने में सफल रहे। अपने व्यावहारिक दृष्टिकोण में,  जबकि उन्होंने ऊपरी भारत के अधिकांश हिस्सों को अपने प्रत्यक्ष प्रशासन के तहत एक ठोस राजनीतिक इकाई में परिवर्तित कर दिया, उन्होंने दक्खन, सीमांत राज्यों और जनजातीय क्षेत्रों को अपनी राजनीतिक सूझ-बूझ के साथ उन पर एक निश्चित प्रभाव के साथ रखा।

समुद्रगुप्त भारत के नेपोलियन –

उपाधियां की बात करे तो समुद्रगुप्त को भारत का नेपोलियन कहा जाता था। कला इतिहासकार और स्मिथ ने उनकी जित के लिए भारत के नेपोलियन के रूप में संदर्भित किया है। माना की कई अलग इतिहासकार इस तथ्य को कोय नहीं मानते थे, लेकिन नेपोलियन की तरह वह कभी पराजित नहीं हुये न ही निर्वासन या जेल में गये थे। उन्होंने 380 ईस्वी से अपनी मृत्यु तक गुप्त राजवंश पर शासन किया। 

समुद्रगुप्त की मुत्यु –

महाराजा समुद्रगुप्त की मृत्यु कब हुई ? और samudragupta death को लेकर कोय ज्ञात जानकारी मिलती नहीं है लेकिन ऐसा माना जाता हे की उनकी शासनावधि ल. 335/350-380 तक की माने जाती है उन्होंने 380 ईस्वी से अपनी मृत्यु तक गुप्त राजवंश पर शासन किया।

Samudragupta Facts –

  • गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहते हैं ?
  • भारतीय के इतिहास में गुप्तकाल को स्वर्ण युग माना गया है क्यों की गुप्तकाल में भारतीय विज्ञान से लेकर साहित्य, स्थापत्य तथा मूर्तिकला के क्षेत्र में नये प्रतिमानों की स्थापना की गई जिससे यह काल भारतीय इतिहास में ‘स्वर्ण युग’ के रूप में जाना गया।
  • समुद्रगुप्त का शासनकाल भारत के लिये सोने का ( स्वर्णयुग ) की शुरूआत कही जाती है
  • समुद्रगुप्त को युद्धों की आवश्यकता की नहीं हुई। इन विजयों से उसकी धाक ऐसी बैठ गई थी, कि अन्य प्रत्यन्त नृपतियों तथा यौधेय, मालव आदि गणराज्यों ने स्वयमेवअपनी अधीनता स्वीकृत कर ली थी। 
  • यूरोप का समुद्रगुप्त कौन था (who was samudragupta) बहरहाल समुद्रगुप्त के पराक्रम और विजय अभियानों के कारण कुछ लोग उनकी तुलना नेपोलियन से करते हैं और इसी आधार पर नेपोलियन को यूरोप का समुद्रगुप्त कहा जा सकता है। 

इनके बारे में भी जानिए :- जेम्स वाट की जीवनी हिंदी में

Samudragupta Question –

1 .गुप्त वंस के पूर्ववर्ती और उत्तरवर्ती कोन थे ?

पूर्ववर्ती चन्द्रगुप्त प्रथम  ,उत्तरवर्ती चन्द्रगुप्त द्वितीय या रामगुप्त है। 

2 .भारतीय इतिहास में कौन सा काल स्वर्णकाल के नाम से जाना जाता है ?

भारतीय इतिहास में गुप्त काल को स्वर्णकाल के नाम से जाना जाता है

3 .समुद्रगुप्त की विजय यात्रा का मुख्य उद्देश्य क्या था ?

समुद्रगुप्त की विजय यात्रा का मुख्य उद्देश्य भारत में राष्ट्रीय एकता की स्थापना करना था। 

4 .समुद्रगुप्त ने कब तक शासन किया ?

समुद्रगुप्त ने करिबन (राज 335/350-380)

5 .गुप्त वंश का अन्तिम शासक कौन था ?

कुमारगुप्त तृतीय गुप्त वंश का अन्तिम शासक था।

6 .गुप्त वंश के बाद कौन सा वंश आया ?

गुप्तों के पतन के बाद हूण, मौखरि, मैत्रक, पुष्यभूति और गौड का शाशन आया। 

7 .कौन सा ग्रंथ गुप्त काल में रचा गया ?

हितोपदेश व पंचतंत्र की रचना भी गुप्त काल में हुई है

8 .दक्षिण में समुद्रगुप्त की नीति क्या थी ?

उत्तर भारत के राजाओं का विनाश कर उनके राज्यों को अपने साम्राज्य में मिला लिया

9 .समुद्रगुप्त ने कलिंग पर कब आक्रमण किया था ?

समुद्रगुप्त ने कलिंग पर 350 – 418 ई. में आक्रमण किया था

10.गुप्त काल का सबसे प्रसिद्ध वेद कौन था ?

इतिहास का सर्वप्रमुख स्त्रोतअभिलेख है। जिसे ‘प्रयाग-प्रशस्ति’ कहा जाता है।

11 .गुप्त काल की सबसे प्रसिद्ध स्त्री शासिका कौन थी  ?

गुप्त काल की सबसे प्रसिद्ध स्त्री शासिका प्रभावती गुप्त थी

12 .समुद्रगुप्त का दूसरा नाम क्या था ?

समुद्रगुप्त का दूसरा नाम जावा पाठ में तनत्रीकमन्दका के नाम से प्रकट है

13 .समुद्र्गुप्त के माता -पिता का नाम क्या था ?

समुद्र्गुप्त के पिता का नाम चन्द्रगुप्त प्रथम था और माता का नाम कुमारादेवी था

14 .समुद्रगुप्त का दरबारी कवि कौन था ?

समुद्रगुप्त का दरबारी कवि हरिसेन था

15 .समुद्रगुप्त का पुत्र कौन है ?

समुद्रगुप्त का पुत्र चंद्रगुप्त द्वितीय था

16 .समुद्रगुप्त की पत्नी कौन है ?

समुद्रगुप्त की पत्नी दत्तदेवी थी

17 .समुद्र्गुप्त का घराना क्या था ?

समुद्र्गुप्त का घराना गुप्त राजवंश था। 

Conclusion –

आपको मेरा Samudragupta Biography In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये samudragupta father और samudragupta empire map से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है। तो कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Sorry Bro
%d bloggers like this: