Harshvardhan Biography In Hindi – सम्राट हर्षवर्धन की जीवनी

नमस्कार मित्रो आज के हमारे आर्टिकल में आपका स्वागत है ,आज हम Emperor Harshvardhan Biography In Hindi में छठी शताब्दी के एक महान सम्राट हर्षवर्धन का जीवन परिचय और harshvardhan history बताने वाले है। 

ईसा की छठी शताब्दी में उत्तर भारत में एक शक्तिशाली राज्य था, जिसका नाम था थानेश्वर वह में राजा प्रभाकरवर्धन राज करते थे। वे बड़े वीर, पराक्रमी और योग्य शासक थे। आज vardhana dynasty के achievements of harshavardhana , king harshavardhana administration और name the plays written by emperor harshvardhan सम्पूर्ण जानकारी बताने वाले है। 

उनके पिताजी राजा प्रभाकरवर्धन ने महाराज के स्थान पर महाराजाधिराज और परम भट्टारक की उपाधियां धारण की हुई थी । राजा प्रभाकरवर्धन छठी शताब्दी के उत्तरार्द्ध में मालवों, गुर्जरों और हूणों को पराजित कर चुके थे, किंतु राज्य की उत्तर-पश्चिम सीमा पर प्रायः हूणों के छुट-पुट उपद्रव होते रहते थे। आज के पोस्ट में हम हर्षवर्धन की विजय , हर्षवर्धन की उपलब्धियों की विवेचना और हर्ष युगीन प्रशासन की प्रमुख विशेषताएं क्या थी उसकी सभी बातो से आज हम वाकिफ कराने वाले है। 

नाम हर्षवर्धन
जन्म 590 ई.स
पिता प्रभाकर वर्धन
माता  यशोमती
पत्नी दुर्गावती
भाई राजवर्धन
बहन  राज्यश्री
बेटे भाग्यबर्धन, कल्याणबर्धन (हर्षबर्धन के दरबार के ही एक मंत्री अरुणाश्वा ने दोनों की हत्या कर दी थी
धर्म हिन्दू, बौद्ध
राजवंश वर्द्धन (पुष्यभूति)
निधन 647 ई.स.

Harshvardhan Biography In Hindi –

राजा प्रभाकरवर्धन की रानी का नाम यशोमती था। रानी यशोमती के गर्भ से जून 590 में एक परम तेजस्वी बालक ने जन्म लिया था । यही बालक आगे चलकर भारत के इतिहास में राजा हर्षवर्धन के नाम से विख्यात हुआ। Harshvardhan का राज्यवर्धन नाम का एक भाई भी था। राज्यवर्धन हर्षवर्धन से चार वर्ष बड़ा था। हर्षवर्धन की बहन राज्यश्री उससे लगभग डेढ़ वर्ष छोटी थी। इन तीनों बहन-भाइयों में अगाध प्रेम था , हर्षवर्धन एक भारतीय सम्राट थे जो पुष्यभूति परिवार से संबंधित थे।

इसके बारे में भी जानिए :- Michael Jackson Dance का जन्म परिचय हिंदी

हर्षवर्धन का प्रारंभिक जीवन –

हर्षवर्धन का जन्म 580 ईस्वी के आसपास हुआ था और इनको वर्धन वंश के संस्थापक प्रभाकर वर्धन का पुत्र माना जाता है। अपनी प्रतिष्ठा से हर्षवर्धन ने राज्य को पंजाब, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और नर्मदा नदी के उत्तर में पूरे भारत-गंगा के मैदान को विस्तारित किया। गौड़ के राजा शशांक द्वारा अपने बड़े भाई राज्यवर्धन की हत्या के बाद Harshvardhan ने गद्दी संभाली। उस समय उनकी उम्र सिर्फ 16 वर्ष की थी। राजगद्दी पर बैठने के बाद हर्षवर्धन ने थानेसर और कन्नौज के दो राज्यों का विलय कर दिया और अपनी राजधानी को कन्नौज में स्थानांतरित कर दिया।

हर्ष एक धर्मनिरपेक्ष शासक थे और सभी धर्मों और धार्मिक निष्ठाओं का सम्मान करते थे। अपने जीवन के शुरुआती दिनों में वह सूर्य के उपासक थे लेकिन बाद में वह शैववाद और बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए। चीनी तीर्थयात्री ह्वेनसांग के अनुसार, जिन्होंने 636 ईस्वी में हर्षवर्धन के राज्य का दौरा किया था, हर्ष ने कई बौद्ध स्तूप के निर्माण करवाए। हर्षवर्धन नालंदा विश्वविद्यालय का एक महान संरक्षक भी था। हर्षवर्धन चीन-भारतीय राजनयिक संबंध स्थापित करने वाले पहले व्यक्ति थे। 

हर्षवर्धन का सिहांसनारूढ़ -(Harshavardhan Throne)

हर्ष के पिता का नाम प्रभाकरवर्धन था। प्रभाकरवर्धन की मृत्यु के पश्चात राज्यवर्धन राजा हुआ, पर मालव नरेश देवगुप्त और गौड़ नरेश शशांक की दुरभि संधिवश मारा गया। अर्थात बड़े भाई राज्यवर्धन की हत्या के बाद Harshvardhan को 606 में राजपाट सौंप दिया गया। खेलने-कूदने की उम्र में हर्षवर्धन को राजा शशांक के खिलाफ युद्ध के मैदान में उतरना पड़ा। शशांक ने ही राज्यवर्धन की हत्या की थी। गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद उत्तर भारत में अराजकता की स्थिति बनी हुई थी। ऐसी स्थिति में हर्ष के शासन ने राजनीतिक स्थिरता प्रदान की हुई थी। 

हर्षवर्धन के साम्राज्य का विस्तार – 

यद्यपि नालंदा और बाँसखेड़ा में शिलालेख और उस युग के सिक्के हमें हर्ष के शासनकाल के बारे में कुछ जानकारी भी प्रदान करते हैं, लेकिन सबसे उपयोगी जानकारी बाणभट्ट की हर्ष चरिता और चीनी यात्री ह्वेन त्सांग के विवरण से मिलती है। ह्वेन त्सांग ने वर्णन किया कि हर्ष ने अपने शासनकाल के पहले छह वर्षों के भीतर पूरे देश को जीत लिया। हालांकि, बयान को गंभीरता से नहीं लिया जाना है।  हर्ष ने उत्तर भारत पर भी पूरी तरह से कब्जा नहीं किया था और न ही उसके युद्ध और विजय उसके शासन के पहले छह वर्षों तक सीमित थे।

हर्ष ने पहले बंगाल पर आक्रमण किया। यह अभियान बहुत सफल नहीं था क्योंकि साक्ष्य यह साबित करते हैं कि 637 ईस्वी तक बंगाल और उड़ीसा के बड़े हिस्से पर सासंका का शासन जारी रहा, सासंका की मृत्यु के बाद ही हर्ष अपने मिशन में सफल हुआ।सम्राट हर्षवर्धन ने राज्य को पंजाब, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और नर्मदा नदी के उत्तर में पूरे भारत-गंगा के मैदान तक विस्तारित करने में सफल रहे थे। 

इसके बारे में भी जानिए :- Dinesh Kartik का जन्म परिचय हिंदी

हर्षवर्धन का अभियान –

माना जाता है कि सम्राट Harshvardhan की सेना में 1 लाख से अधिक सैनिक थे। यही नहीं, सेनामें 60 हजार से अधिक हाथियों को रखा गया था। लेकिन हर्ष को बादामी के चालुक्यवंशी शासक पुलकेशिन द्वितीय से पराजित होना पड़ा। ऐहोल प्रशस्ति (634 ई.) में इसका उल्लेख मिलता है। 6ठी और 8वीं ईसवीं के दौरान दक्षिण भारत में चालुक्‍य बड़े शक्तिशाली थे। इस साम्राज्‍य का प्रथम शास‍क पुलकेसन, 540 ईसवीं में शासनारूढ़ हुआ। कई शानदार विजय हासिल कर उसने शक्तिशाली साम्राज्‍य की स्‍थापना की थी ।

उसके पुत्रों कीर्तिवर्मन व मंगलेसा ने कोंकण के मौर्यन सहित अपने पड़ोसियों के साथ कई युद्ध करके सफलताएं अर्जित कीं व अपने राज्‍य का और विस्‍तार किया।कीर्तिवर्मन का पुत्र पुलकेसन द्वितीय चालुक्‍य साम्राज्‍य के महान शासकों में से एक था। उसने लगभग 34 वर्षों तक राज्‍य किया। अपने लंबे शासनकाल में उसने महाराष्‍ट्र में अपनी स्थिति सुदृढ़ की व दक्षिण के बड़े भू-भाग को जीत लिया। उसकी सबसे बड़ी उपलब्धि हर्षवर्धन के विरुद्ध रक्षात्‍मक युद्ध लड़ना था। 

हर्षवर्धन का प्रशासन –

हर्ष ने पिछले महान हिंदू शासकों के मॉडल पर अपने साम्राज्य के प्रशासनिक सेट को बनाए रखा। वे स्वयं राज्य के प्रमुख थे, और सभी प्रशासनिक, विधायी और न्यायिक शक्तियां उनके हाथों में केंद्रित थीं। वह अपनी सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ भी थे। हर्ष ने महाराजाधिराज और परम भट्टारक की उपाधि धारण की। वह एक उदार शासक था और व्यक्तिगत रूप से प्रशासन की देखरेख करता था।

वह न केवल एक योग्य शासक था, बल्कि बहुत मेहनती भी था। ह्वेन त्सांग लिखते हैं, “वह अनिश्चितकालीन थे और दिन उनके लिए बहुत छोटा था। उन्होंने अपने विषयों के कल्याण को अपना सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्य माना और बरसात के मौसम को छोड़कर, लगातार अपने साम्राज्य के विभिन्न हिस्सों में अपनी आंखों से चीजों को देखने के लिए यात्रा की। वह उनके कल्याण की देखभाल के लिए अपने गाँव-प्रजा के संपर्क में था।

राजा को मंत्रियों की एक परिषद द्वारा सहायता प्रदान की गई थी जो काफी प्रभावी थी। इसने विदेश नीति और आंतरिक प्रशासन के मामलों में राजा को सलाह दी। हर्ष को थानेश्वर के सिंहासन की पेशकश की गई और बाद में, संबंधित राज्यों के तत्कालीन मंत्रियों द्वारा कन्नौज के सिंहासन को। मंत्रियों के अलावा राज्य के कई अन्य महत्वपूर्ण अधिकारी थे जिनके बारे में एक विस्तृत सूची बाणभट्ट ने अपनी हर्षचरित में दी है।

उच्च शाही अधिकारियों में एक महासन्धिविग्रहधर्मी, एक महाबलधारीकृता और एक महाप्रतिहार थे। इसके अलावा, अवंति वह अधिकारी था जो युद्ध और शांति के मामलों को देखता था। सेना के कमांडर-इन-चीफ को सिंघानाड़ा कहा जाता था; कुन्तल घुड़सवार सेना के प्रमुख थे; स्कंदगुप्त युद्ध-हाथी के प्रमुख थे; और नागरिक प्रशासन के प्रमुख को सामंत-महाराजा कहा जाता था।

हर्षवर्धन रचित साहित्य – Harshvardhan literature

Harshvardhan ने ‘रत्नावली’, ‘प्रियदर्शिका’ और ‘नागरानंद’ नामक नाटिकाओं की भी रचना की। ‘कादंबरी’ के रचयिता कवि बाणभट्ट उनके (हर्षवर्धन) के मित्रों में से एक थे। कवि बाणभट्ट ने उसकी जीवनी ‘हर्षच चरित’ में विस्तार से लिखी है। चीन से बेहतर संबंध : महाराज हर्ष ने 641 ई. में एक ब्राह्मण को अपना दूत बनाकर चीन भेजा था। 643 ई. में चीनी सम्राट ने ‘ल्यांग-होआई-किंग’ नाम के दूत को हर्ष के दरबार में भेजा था। लगभग 646 ई. में एक और चीनी दूतमण्डल ‘लीन्य प्याओं’ एवं ‘वांग-ह्नन-त्से’ के नेतृत्व में हर्ष के दरबार में आया था ।

इतिहास के मुताबिक, चीन के मशहूर चीनी यात्री ह्वेन त्सांग हर्ष के राज-दरबार में 8 साल तक उनके दोस्त की तरह रहे थे। तीसरे दूत मण्डल के भारत पहुंचने से पूर्व ही हर्ष की मृत्यु हो गई थी। हर्षवर्धन के अपनी पत्नी दुर्गावती से 2 पुत्र थे- वाग्यवर्धन और कल्याणवर्धन। पर उनके दोनों बेटों की अरुणाश्वा नामक मंत्री ने हत्या कर दी। इस वजह से हर्ष का कोई वारिस नहीं बचा। हर्ष के मरने के बाद, उनका साम्राज्य भी धीरे-धीरे बिखरता चला गया और फिर समाप्त हो गया।

इसके बारे में भी जानिए :- Birsa Munda के जीवन परिचय हिंदी

हर्षवर्धन के दरबारी कवि – 

  • हर्ष-चरित और कदंबरी के लेखक बाणभट्ट, हर्ष के दरबारी कवि थे।
  • मौर्य और भारतीधारी, मयूराष्टक और वाक्यपदीय के लेखक भी हर्ष के दरबार में रहते थे।

हर्षवर्धन के दौरान संस्कृति और सभ्यता –

हर्ष की अवधि के दौरान भारत की संस्कृति और सभ्यता में कोई महत्वपूर्ण परिवर्तन नहीं हुआ। गुप्त युग के दौरान स्थापित की गई परंपराएं और मूल्य जीवन के सभी क्षेत्रों में इस अवधि के दौरान जारी रहे थे ।

I. सामाजिक स्थिति:

जातियों में हिंदू समाज का चार गुना विभाजन प्रभावी रहा, हालांकि, उप-जातियाँ भी उभर रही थीं। जाति-व्यवस्था अधिक कठोर हो रही थी हालांकि अंतर्जातीय विवाह और अंतर्जातीय विवाह संभव थे। महिलाओं की स्थिति में नीचे की ओर की प्रवृत्ति इस उम्र के दौरान बनी रही। सती प्रथा को प्रोत्साहन मिल रहा था, हालांकि यह केवल उच्च जातियों तक ही सीमित था। पुरदाह व्यवस्था नहीं थी लेकिन समाज में महिलाओं के आंदोलनों पर कई प्रतिबंध थे।हालाँकि, सार्वजनिक नैतिकता अधिक थी। लोगों ने एक सरल और नैतिक जीवन का पालन किया और मांस, प्याज और शराब के सेवन से परहेज किया था ।

2.आर्थिक स्थिति:

सामान्य तौर पर, साम्राज्य के भीतर समृद्धि थी। कृषि, उद्योग और व्यापार, दोनों आंतरिक और बाहरी, एक समृद्ध स्थिति में थे। उत्तर-पश्चिम में पेशावर और तक्षशिला जैसे शहर बेशक, हूणों और मथुरा के आक्रमणों से नष्ट हो गए थे और पाटलिपुत्र ने अपना पिछला महत्व खो दिया था, लेकिन प्रयाग (इलाहाबाद), बनारस और कन्नौज साम्राज्य के भीतर समृद्ध शहर थे।

3. धार्मिक स्थिति:

हिंदू धर्म, जैन धर्म और बौद्ध धर्म अभी भी भारत में लोकप्रिय धर्म थे। हिंदू धर्म लोगों पर अपनी लोकप्रिय पकड़ बनाए हुए था और विभिन्न देवी-देवताओं के मंदिरों को बड़ी संख्या में बनाया गया था। विष्णु और उनके अलग-अलग अवतार और शिव हिंदुओं के सबसे लोकप्रिय देवता थे। प्रयाग और बनारस हिंदू धर्म के प्रमुख केंद्र थे। बौद्ध धर्म का लोकप्रिय संप्रदाय महाज्ञानवाद था। 

इसके बारे में भी जानिए :- Michael Jackson Dance का जन्म परिचय हिंदी

Harshvardhan Death (हर्षवर्धन मृत्यु)

king harshavardhana ने तक़रीबन चालीस साल  तक भारत देश पर अपना शासन चलाया था ,इसके पश्यात 647 ईस्वी में महाराजा की मृत्यु हो गई, राजा हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्यात राज गद्दी के लिए कोई उत्तराधिकारी नहीं बचा था। मृत्यु के पश्यात उनका विशाल साम्राज्य पूरी तरह से ख़त्म हो गया । उनकी विदाय के बाद जिस राजा ने कन्नौज राज्य की राजगद्दी संभाली वे बंगाल के राजा के विरुद्ध जंग में हार गया था और उनका साम्राज्य सम्पूर्ण समाप्त हो चूका था। 

Harshvardhan Video –

हर्षवर्धन के रोचक तथ्य –

  • साम्राट हर्षवर्धन की सेना में तक़रीबन 5,000 हाथी, 2,000 घुड़सवार और 5,000 पैदल सैनिक हुआ करते थे। कालान्तर में हाथियों की संख्या बढ़कर 60,000 और घुड़सवार एक लाख तक पहुंच गई थी। 
  • हर्षवर्धन सबसे कीर्तिमान  और वीर भारतीय सम्राट थे जो पुष्यभूति परिवार से संबंधित थे।
  • हर्षवर्धन  के शासनकाल के दौरान थानेसर और कन्नौज दो साम्राज्य हुआ करते थे उसके पश्यात उन्होंने अपनी राजधानी थानेसर से कन्नौज में बदल दी थी। 
  • राजा हर्षवर्धन एक बहुत एक प्रसिद्ध लेखक और अच्छे विद्वान थे , उन्होंने संस्कृत में तीन नाटक रत्नावली, प्रियदर्शिका और नागानंद खुद लिखे थे ।

वर्धन वंश के महत्वपूर्ण प्रश्न –

1 .हर्षवर्धन की राजधानी कहां थी ?

सम्राट हर्षवर्धन की राजधानी कन्नौज थी। 

2 .वर्धन वंश का संस्थापक कौन था ?

प्रभाकर वर्धन वर्धन वंश के संस्थापक थे। 

3 .हर्षवर्धन की मृत्यु कब हुई ?

647 ईस्वी में महाराजा हर्षवर्धन की मृत्यु हुई थी। 

4 .हर्षवर्धन की मृत्यु के बाद किस राजा ने कन्नौज पर शासन किया ?

हर्षवर्धन की मृत्यु के बाद बंगाल के राजा ने कन्नौज पर शासन किया था। 

5 .हर्षवर्धन के पिता का नाम क्या था ?

सम्राट हर्षवर्धन के पिता का नाम प्रभाकर वर्धन था। 

इसके बारे में भी जानिए :- Tatya Tope का जीवन परिचय हिंदी

निष्कर्ष – 

दोस्तों आशा करता हु आपको मेरा यह आर्टिकल Emperor Harshvardhan Biography In Hindi आपको बहुत अच्छी तरह से समज आ गया होगा और पसंद भी आया होगा । इस लेख के जरिये  हमने pushyabhuti dynasty और name the plays written by emperor harshvardhan से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दे दी है अगर आपको इस तरह के अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है। और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द ।

10 thoughts on “Harshvardhan Biography In Hindi – सम्राट हर्षवर्धन की जीवनी”

  1. Pingback: राजा महेन्द्र प्रताप जीवन - Raja Mahendra Pratap Life Introduction In Hindi

  2. Pingback: राणा सांगा का जीवन परिचय हिंदी में - Life introduction of Rana Sanga in Hindi

  3. Pingback: सुरदास का जीवन परिचय हिंदी में - Surdas life introduction in Hindi

  4. Pingback: चाँद बीबी का जीवन परिचय हिंदी में जानकारी - THE BIO HINDI

  5. Pingback: Life introduction of Robert Burns in Hindi - रॉबर्ट बर्न्स का जीवन परिचय हिंदी में

  6. Pingback: Biography oF William Morris In Hindi - विलियम मॉरिस का जीवन परिचय हिंदी में

  7. Pingback: Biography oF Rana Sanga in Hindi - राणा सांगा का जीवन परिचय हिंदी में

  8. Pingback: Biography Raja Mahendra Pratap In Hindi - राजा महेन्द्र प्रताप जीवन हिंदी में

  9. Pingback: Biography of Chand Bibi In Hindi - चाँद बीबी का जीवन परिचय हिंदी में

  10. Pingback: Biography of Robert Burns in Hindi - रॉबर्ट बर्न्स का जीवन परिचय हिंदी में

Comments are closed.

error: Sorry Bro
%d bloggers like this: