Rakesh Tikait Biography Hindi – राकेश टिकैत की जीवनी

आज के आर्टिकल Rakesh Tikait Biography में आपको एक साधारण  पुलिस वाले से किशन आंदोलन के राष्ट्रीय प्रवक्ता बनने के संघर्ष सफर से परिचित करते है। 

वर्तमान समय में चल रहे किसान आंदोलन के मुख्य सूत्रधार राकेश टिकैत कौन है ? rakesh tikait education, rakesh tikait political career और rakesh tikait congress पार्टी से कितने वक्त चुनाव लड़े और उनकी जित हुई या हार ये सभी बातो की सचाई आपको बताने वाले है।  दिल्ही बॉर्डर पे जोर शोर से जिस आंदोलन ने  सरकार की नींद उड़ाई है। ऐसा लगता है की किसान  अपने हक़ लेकर ही रहेंगे। 

इस किसान अन्दोलन के पीछे कई कारण के साथ साथ कुछ अच्छे और नेक इंसान भी शामिल है जैसे की राकेश टिकैत भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता हैं। जिनके एक आवाज से यूपी,राजस्थान,हरियाणा और पंजाब जैसे राज्यों में से हजारो की संख्या में किसान फिरसे दिल्ली शहर में एकत्र हो गए और अपना किसान आंदोलन दूसरे वक्त फिर से पुरे रंग में आ चुका है। 

पूरा नाम चौधरी राकेश टिकैत
जन्म 4  जून 1969 
जन्म स्थान मुजफ्फरनगर ,कस्बा सिसौली, भारत 
पद भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता
पिता का नाम स्वर्गीय चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत
भाई  चौधरी नरेश टिकैत
पत्नी सुनीता देवी
बेटा चरण सिंह
बेटी सीमा,ज्योति
पढ़ाई मेरठ विश्वविद्यालय से एमए
पेशा पुलिस कांस्टेबल, किशन आंदोलन के राष्ट्रीय प्रवक्ता
राष्ट्रीयता भारतीय 

Rakesh Tikait Biography Hindi –

भारत देश में हो रहे किसान आंदोलन में शामिल मुख्य हीरो माने जाने वाले राकेश टिकैत वर्तमान समय में सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा सर्च हुआ करते हैं। इसी कारन सबके मन में एक सवाल हुआ करता है की राकेश टिकैत कौन है? इसी सवाल का जवाब के लिए आज की पोस्ट लिखी जाती है। उनके जीवन संघर्ष की की कहानी बताने वाले है। भारत के दिल्ली शहर के लाल किले पर 26 जनवरी को हुई हिंसा के पश्यात भी किसान आंदोलन अभी भी खड़ा हुआ है।

इसे भी पढ़े :- अमित शाह की जीवनी

Rakesh Tikait Birth And Education –

किसान आंदोलन के मुख्य सूत्र धार राकेश टिकैत का जन्म 4 जून 1969 के दिन भारत के मुजफ्फरनगर के सिसौली गांव में हुआ था उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा पूर्ण करके मेरठ विश्वविद्यालय से अपनी पढाई पूरी करके MA की डिग्री हासिल की हुई है। अपनी पढाई पूर्ण करके उन्होंने दिल्ली पुलिस में अपनी सेवा प्रदान करनी शुरू करदी थी। 1992 की साल में उन्होंने पुलिस की नौकरी शुरू की थी। अपनी इमानदारी से उन्होंने अपनी फर्ज अदा की है। 

Rakesh Tikait Family –

राकेश टिकैत के परिवार की जानकारी बताई जाये तो उनके पिताजी चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत अपनी पूरी जिंदगी किसानो के लिए कार्य किया हुआ है और अपने पिताजी से राकेश भाई बहुत प्रभावित हुए है। लाल किल्ले पर हो रहे किसान आंदोलन में उनके पिताजी धरने पर बैठे थे और सरकार श्री से उस आंदोलन को दबाने की कोशिश आज तक जारी ही रखी है। उनके परिवार में चार भाई है। इसके बड़े भाई का नाम नरेश टिकैत और नन्हे दो भाई का नाम सुरेंद्र टिकैत और नरेंद्र टिकैत है।

सुरेंद्र एक शुगर फैक्टरी में मैनेजर की पोस्ट पे कार्य किया करते है तो नन्हे भाई नरेंद्र टिकैत अपनी खेती संभाला करते है। Rakesh Tikait marriage की बात करे  बागपत जिले के दादरी गांव की सुनीता नाम की लड़की से वर्ष 1985 में हुई थी अपने सफल दामपत्य जीवन से उन्हें दो पुत्रियां और एक पुत्र हुए है और सभी बच्चो की शादिया भी कर दी गयी है।

शुरुआती जीवन –

राकेश टिकैत के शुरूआती जिंदगी को बात करे तो उन्होंने अपनी पढाई पूर्ण करके उन्होंने दिल्ली पुलिस में अपनी सेवा प्रदान करनी शुरू करदी थी। 1992 की साल में उन्होंने पुलिस की नौकरी शुरू की थी। और अपने पिताजी के दिए रस्ते चलते हुए उन्होंने किशन आंदोलन को अपने डैम पर फिरसे चालू रखने में मदद की हुई है। आज की पोस्ट में राकेश टिकैत बायोग्राफी की सम्पूर्ण जानकारी से आपको ज्ञात करने वाले है। 

वर्ष 2007 के आम चुनावो में उन्होंने ने उत्तर प्रदेश के खतौली जो मुज़्ज़फरनगर की एक विधान सभा सीट से चुनाव में खड़े हुए और उन्हें हार हासिल हुई थी इसके पश्यात 2014 की साल में congress से अमरोहा जनपद से अपनी लोक सभा चुनाव की दावेदारी की थी और फिर से उन्हे हार का सामना करना पड़ा था । उन्होंने अपनी जिंदगी से बहुत कुछ सीखा है और अपने पिताजी के दिए हुए रास्ते चलते हुए किसान आंदोलन के मुख्य सूत्र धार बने हुए है। 

इसे भी पढ़े :- रतन टाटा की जीवनी 

राकेश टिकैत बने भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष –

अपने पिताजी स्वर्गीय महेंद्र सिंह टिकैत बालियान खाप से बिलोंग किया करते है इसी कारन उनके खाप के कुछ नियम के मुताबिक उनके सबसे बड़े बेटे को इसका मुख्यसूत्रधार बनाया जाता था ईसिस वजह से पिता महेंद्र सिंह के मौत के कुछ वक्त के पश्यात ही भारतीय किसान यूनियन का अध्यक्ष उनके बेटे नरेश टिकैत को बनाया था। 

लेकिन व्यवहारिक के कारन उसके सभी फैसले राकेश टिकैत ही लिया करते थे इस कारन राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत को बनाया गया है और उनकी जिम्मेदारी वह बखूबी से निभाते हुए दिल्ली बॉर्डर पे आज खड़े है। 

भारतीय किसान यूनियन –

1987  की साल में जब चौधरी चरण सिंह की सरकार भारत देश पर सत्ता में थी तब उस वक्त ही भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) की नींव राखी गई थी। उस वक्त जब किसानो के बिजली दाम को नीचा करने के लिए किसानों ने महेंद्र सिंह टिकैत नाम के व्यक्ति के नेतृत्व में  एक बड़ा आंदोलन जो शामली जनपद के करमुखेड़ी में किया हुआ था इस आंदोलन में कई लोगो पुलिस की गोली लगने से घायल हुए थे तो अकबर और जयपाल नाम के आंदोलनकारी मारे गए थे।

इस समस्या होने के बाद ही बीकेयू यानि भारतीय किसान यूनियन का निर्माण किया गया था और उसके मुखिया चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत को नियुक किये गए थे। महेंद्र सिंह टिकैत की मौत 15 मई 2011 के दिन हुई थी इसी कारन उसके बेटे नरेश टिकैत को पगड़ी पहनाकर भारतीय किसान यूनियन का मुखिया बनाया गया था और छोटे बेटे राकेश टिकैत को यूनियन का राष्ट्रीय प्रवक्ता केव रूप में पसंद किया गया है। 

किसान विरोधी बिल के खिलाफ आंदोलन की जान बने राकेश टिकैत –

वर्तमान समय में 2020 से राकेश टिकैत दिल्ली लाल किले में चल रहे किसान विरोधी धारा यानि बिल के विरोध में एक आंदोलन करके रोष प्रदर्शन करते हुए लाखों की संख्या किसान गाजीपुर बॉर्डर पर खड़े है नहीं सरकार जुकति है नहीं किसान पीछे हटते है। उस जगह 26 जनवरी को हुई टेक्टर रैली में हुई हिंसा के खिलाफ पूरा  भारत देश किसानों के खिलाफ था लेकिन उस वक्त राकेश टिकैत ने एक आवाज लगाई और आंदोलन दोबारा चालू हो चूका है

एक नए जान भरदी है किसानो में। राकेश टिकैत के इक हुंकार से हजारो नहीं लेकिन लाखो की संख्या में किसान दिल्ली बॉर्डर पर पहुंच चुके है चाहे वह उत्तर प्रदेश,राजस्थान,हरियाणा होइ या पंजाब हो पुरे देश के किसान दिल्ही चुके है। हम भी उम्मीद करते है की मोदी सरकार कानून रद्द करदे नहीं तो सरकार को बहुत नुकसान का सामना करना पड़ेगा इसमें कोई गलत नहीं है। किसान मजदूर एकता जिंदाबाद है और रहेंगी हमेशा के लिए। 

Rakesh Tikait Net Worth –

सोसियल मिडिया से उपलब्ध माहिती के मुताबिक राकेश टिकैत की कुल संपत्ति का अंदाजा लगाया गया है की उसके पास 2021 साल तक तक़रीबन 4 से 5 करोड़ रुपये की संपत्ति बताई जाती है। rakesh tikait income का मुख्य साधन उनकी खुदका व्यवसाय और राजनीति को माना जाता है।वैसे तो हरेक इंसान के पास खुद का कुछ न कुछ व्यवसाय होता है वैसे ही राकेश टिकैत भी आय का मुख्य स्त्रोत खुद का बिज़नेस है। 

इसे भी पढ़े :- आमिर खान की जीवनी

राकेश टिकैत का गुजरात दौरा  – Rakesh Tikait Gujarat Tour

राकेश टिकैत 4 अप्रैल और 5 अप्रैल गुजरात में आने वाले है। उनका कार्यक्रम इस तरह रहने वाला है। 

तारीख 4/4/2021 

अंबाजी आगमन

समय 11 am   

अंबाजी मंदिर दर्शन 

12:30 

किसान अभिवादन 

स्थल – अंबाजी 

समय – 12:45 

किसान संवाद 

स्थल – सुरमंदिर सिनेमा के सामने का मैदान आबू हाइवे रोड, पालनपुर

समय – 2:30

उमिया मंदिर दर्शन  

स्थल – उंझा 

समय – 5:00

तारीख 5/4/2021 

गाँधी आश्रम

स्थल – साबरमती 

समय – 7:00 

सरदार निवास्थान 

स्थल – करमसद 

समय – 10:00 

गुरुद्वार दर्शन 

स्थल – छानी वड़ोदरा 

समय – 11:00

किसान संवाद

स्थल – स्वराज आश्रम बारडोली 

समय – 3:00 

Rakesh Tikait Instagram –

Instagram – https://www.instagram.com/gatheora/

  • rakesh.tikait
  • posts – 442 
  • followers – 44.7k 
  • following – 25 
  • Official Account of Farmers Leader & National Spokesperson of Bhartiya Kisan Union

Rakesh Tikait Social Media Profile –

Facebook – https://www.facebook.com/ChaudharyRakeshTikait/

Email Id – Not Available

WhatsApp Number – Not Available

Official Website – Not Available

Twitter – https://twitter.com/RakeshTikaitBKU?

Life Style Video –

Interesting Facts –

  • राकेश टिकैत का जन्म उनके पैतृक ग्राम सिसौली में 4 जून 1969 में हुआ था। उनकी प्रायमरी शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्होंने मेरठ विश्वविद्यालय से MA की डिग्री प्राप्त की हुई है। 
  • भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष राकेश टिकैत  दो वक्त चुनाव में खड़े हुए है और उनको हर का सामना करना पड़ा है। 
  • राकेश टिकैत ने अपनी शिक्षा पूर्ण करने के दिल्ली शहर की पुलिस में नौकरी शुरू करदी थी उन्होंने 1992 की साल में कॉन्स्टेबल की नौकरी की शुरुआत करदी थी। 
  • राकेश टिकैत किसान के हित की लड़ाई लड़ते लड़ते कई बार जेल भी हुई है उसमे तकरीबन 40 से ज्यादा वक्त उनके जेल हुई है। 
  • वर्तमान समय में rakesh tikait news में बहुत छाए हुए है क्योकि ट्रेक्टर रैली के हिंसा के बाद किसान आंदोलन को दोबारा खड़े करने वाले मसीहा कहे जाते है। 
  • rakesh tikait history देखि जाये तो उनके पिताजी भी भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष रह चुके है और इन्ही कारन प्रेरणा लेके ही राकेश जी किसानो को बहुत चाहते है। 

इसे भी पढ़े :- एलन मस्त की जीवनी हिंदी

Questions –

1 .राकेश टिकैत कौन है ?

चौधरी राकेश टिकैत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एक प्रमुख और भारतिया किसान यूनियन (बीकेयू) के जन प्रतिनिधि हैं। वह सरकार के विरोध में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

2 .राकेश टिकैत पहले क्या करते थे ?

वह पहले पुलिस कांस्टेबल की नौकरी कर रहे थे । 

3 .राकेश टिकैत के कितने भाई है ?

उनको चार भाई है बड़े भाई का नाम नरेश टिकैत और नन्हे दो भाई का नाम सुरेंद्र टिकैत और नरेंद्र टिकैत है।

4 .भारतिया किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रमुख कौन है ?

चौधरी राकेश टिकैत भारतिया किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रमुख है। 

5 .राकेश टिकैत Age कितनी है ?

चार जून 1969 के दिन जन्मे राकेश जी की आयु वर्तमान समय में 2021 की साल में 52 वर्ष है।

6 .राकेश टिकैत पत्नी का नाम क्या है ?

बागपत जिले के दादरी गांव की एक लड़की से वर्ष 1985 में राकेश जी की शादी हुई थी उसका नाम सुनीता देवी है। 

7 .राकेश टिकैत के कितने बच्चे है ?

उनके लड़के का नाम चरण सिंह और लड़कियों का नाम सीमा और ज्योति है। 

8 .राकेश टिकैत के पिताजी का नाम क्या है ?

उनके पिता का नाम चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत है और वह टिकैत बालियान खाप के मुखीया थे। 

9 .राकेश टिकैत का जन्म कहा हुआ था ?

उनका  जन्म 4 जून 1969 के दिन मुजफ्फरनगर ,कस्बा सिसौली में हुआ था। 

10 .राकेश टिकैत की ऊंचाई और वजन क्या है ?

उनकी  ऊंचाई 5 फीट 7 इंच है और उसका वजन 68 किलोग्राम है। 

Conclusion – 

आपको मेरा Rakesh Tikait Biography बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये राकेश टिकैत का गुजरात दौरा और राजनैतिक करियर से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है। तो कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Sorry Bro