Thomas Alva Edison Biography In Hindi – थॉमस अल्वा एडिसन की जीवनी

नमस्कार मित्रो आज के हमारे लेख में आपका स्वागत है ,आज हम Thomas Alva Edison Biography In Hindi में प्रथम औद्योगिक प्रयोगशाला स्थापित करने अमरीकी आविष्कारक थॉमस अल्वा एडिसन का जीवन परिचय बताने वाले है। 

उनका जन्म 11 फ़रवरी 1847 के दिन अमेरिका में हुआ था ,फोनोग्राफ एवं विद्युत बल्ब सहित अनेकों युक्तियाँ विकसित कीं जिनसे संसार भर में लोगों के जीवन में भारी बदलाव आये। आज हम मेन्लो पार्क के जादूगर” के नाम से प्रख्यात, भारी मात्रा में उत्पादन के सिद्धान्त एवं विशाल टीम को लगाकर अन्वेषण-कार्य को आजमाने वाले thomas edison childhood ,thomas edison quotes और thomas edison net worth की जानकारी बताने वाले है।

थॉमस अल्वा एडीसन को प्रथम औद्योगिक प्रयोगशाला स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है ,अमेरिका में अकेले १०९३ पेटेन्ट कराने वाले एडिसन विश्व के सबसे महान आविष्कारकों में गिने जाते हैं। एडीसन बचपन से ही जिज्ञासु प्रवृत्ति के थे , थॉमस अल्वा एडिसन की कहानी में हम भी आज उस महान इन्सान की सभी बातो से सबको महितगार करने वाले है तो चलिए शुरू करते है ,पुरे दुनिया को उजास देने वाले बल्ब जैसे बेहतरीन भेट देने वाले वैज्ञानिक से जुडी रोचक जानकारी के लिए। 

Thomas Alva Edison Biography In Hindi –

नाम  थॉमस अल्वा एडीसन
जन्म 11 फ़रवरी 1847
पिता सैमुअल ऑग्डेन एडिसन
माता नैंसी मैथ्यु इलियट
पत्नी  मैरी स्टिलवेल (वि॰ 1871–84) ,मीना मिलर (वि॰ 1886–1931
राष्ट्रीयता अमेरिकी
व्यवसाय आविष्कारक, व्यापारी
संबंधी  लुईस मिलर (ससुर)
धार्मिक मान्यता देववादी
बच्चे 1. मैरियन एस्टेल एडीसन (1873–1965) 2.थॉमस अल्वा एडीसन जूनियर (1876–1935) 3.विलियम लेस्ली एडीसन (1878–1937) 4 .मेडेलीन एडीसन (1888–1979) 5 .चार्ल्स एडीसन (1890–1969) 6.थिओडर मिलर एडीसन (1898–1992)
मृत्यु अक्टूबर 18, 1931 (उम्र 84)

थॉमस अल्वा एडिसन की जीवनी –

महान् आविष्कारक थॉमस ऐल्वा एडिसन का जन्म ओहायो राज्य के मिलैन नगर में 11 फ़रवरी 1847 ई. को हुआ। बचपन से ही एडिसन ने कुशाग्रता, जिज्ञासु वृत्ति और अध्यवसाय का परिचय दिया। छह वर्ष तक माता ने घर पर ही पढ़ाया, सार्वजनिक विद्यालय में इनकी शिक्षा केवल तीन मास हुई। तो भी एडिसन ने ह्यूम, सीअर, बर्टन, तथा गिबन के महान ग्रंथों एवं डिक्शनरी ऑव साइंसेज़ का अध्ययन 10वें जन्मदिन तक पूर्ण कर लिया था। एडिसन 12 वर्ष की आयु में फलों और समाचारपत्रों के विक्रय का धंधा करके परिवार को प्रति दिन एक डालर की सहायता देने लगे थे ।

वे रेल में पत्र छापते और वैज्ञानिक प्रयोग करते। तार प्रेषण में निपुणता प्राप्त कर 20 वर्ष की आयु तक, एडिसन ने तार कर्मचारी के रूप में नौकरी की। जीविकोपार्जन से बचे समय को एडिसन प्रयोग और परीक्षण में लगाते थे। वैज्ञानीक प्रयोगों की धुन भी उन्हें शुरू से ही थी । स्कूल की पढ़ाई में मन न लगा तो माँ के प्रोत्साहन से घर में ही छोटे छोटे प्रयोग करने लगे । बारह वर्ष की आयु में उन्होंने ट्रेन में अख़बार बेचना शुरू किया । प्रयोगों का भूत वहाँ भी उनके सिर से न उतरा ट्रेन का डिब्बा ही उनकी प्रयोगशाला बन गया।

इसके बारेमे भी पढ़े :- तात्या टोपे की जीवनी हिंदी

दुनिया को बल्ब से रोशन करने वाले थॉमस एडिसन ने कभी हार नहीं मानी –

महान वैज्ञानिक थॉमस एडिसन बहुत ही मेहनती थे। बचपन में उन्हें यह कहकर स्कूल से निकाल दिया गया कि वह मंद बुद्धि बालक है। उसी थॉमस एडिसन ने कई महत्वपूर्ण आविष्कार किए जिसमें से ‘बिजली का बल्ब’ प्रमुख है। उन्होंने बल्ब का आविष्कार करने के लिए हजारों बार प्रयोग किए थे तब जाकर उन्हें सफलता मिली थी। एक बार जब वह बल्ब बनाने के लिए प्रयोग कर रहे थे तभी एक व्यक्ति ने उनसे पूछा आपने करीब एक हजार प्रयोग किए लेकिन आपके सारे प्रयोग असफल रहे आपकी सारी मेहनत बेकार हो गई तो क्या आपको दुख नहीं होता था। 

तब एडिसन ने कहा मैं नहीं समझता कि मेरे एक हजार प्रयोग असफल हुए है। मेरी मेहनत बेकार नहीं गई क्योंकि मैंने एक हजार प्रयोग करके यह पता लगाया है कि हम इन एक हजार तरीकों से बल्ब नहीं बनाया जा सकता। मेरा हर प्रयोग, बल्ब बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा है और मैं अपने प्रत्येक प्रयास के साथ एक कदम आगे बढ़ता हूं। कोई भी सामान्य व्यक्ति होता तो वह जल्द ही हार मान लेता लेकिन थॉमस एडिसन ने अपने प्रयास जारी रखे और हार नहीं मानी। आखिरकार एडिसन की मेहनत रंग लाई फिर उन्होंने बल्ब का आविष्कार करके पूरी दुनिया को रोशन कर दियाथा और यह थॉमस एडिसन का विश्वास ही था जिसने आशा की किरण को बुझने नहीं दिया नहीं उन्होंने पूरी दुनिया को बल्ब के द्वारा रोशन कर दिया था ।

थॉमस अल्वा एडिसन का वैवाहिक जीवन –

थॉमस एल्वा एडिसन ने 24 साल की उम्र में 16 साल की मैरी स्टिलवेल से विवाह कर लिया था। एडसिन ने मैरी से अपनी मुलाकात के महज 2 महीने के बाद ही उनसे शादी करने का फैसला ले लिया था और फिर 1871 में क्रिसमस के मौके पर वे दोनों एक-दूसरे से शादी के बंधन में बंध गए थे। उन्हें अपनी इस शादी से तीन बच्चे थे विलियम, थॉमस जूनियर और मैरियन भी पैदा हुए थे। शादी के करीब 13 साल बाद मैरी स्टिलवेल की बीमारी की वजह से मौत हो गई। करीब 1 साल बाद 1885 में थॉमस एल्वा एडिसन ने मीना मिलर नाम की महिला के साथ विवाह कर लिया था। अपनी दूसरी शादी से भी एडिसन को मेडेलीन, थिओडोर और चार्ल्स नाम के तीन बच्चे हुए थे।

इसके बारेमे भी पढ़े :- बिरसा मुंडा की जीवनी

थॉमस अल्वा एडिसन का अनुसंधानओं का आरंम्भ –

1869 में एडिसन ने अपने सर्वप्रथम आविष्कार “विद्युत मतदानगणक” को पेटेंट कराया। नौकरी छोड़कर प्रयोगशाला में आविष्कार करने का निश्चय कर निर्धन एडिसन ने अदम्य आत्मविश्वास का परिचय दिया। 1870-76 ई. के बीच एडिसन ने अनेक आविष्कार किए। एक ही तार पर चार, छह, संदेश अलग अलग भेजने की विधि खोजी, स्टॉक एक्सचेंज के लिए तार छापने की स्वचालित मशीन को सुधारा, तथा बेल टेलीफोन यंत्र का विकास किया। उन्होंने 1875 ई. में “सायंटिफ़िक अमेरिकन” में “ईथरीय बल” पर खोजपूर्ण लेख प्रकाशित किया था। 1878 ई. में फोनोग्राफ मशीन पेटेंट कराई जिसकी 2010 ई. में अनेक सुधारों के बाद वर्तमान रूप मिला था । 

21 अक्टूबर 1879 ई. को एडिसन ने 40 घंटे से अधिक समय तक बिजली से जलनेवाला निर्वात बल्ब विश्व को भेंट किया। 1883 ई. में “एडिसन प्रभाव” की खोज की, जो कालांतर में वर्तमान रेडियो वाल्व का जन्मदाता सिद्ध हुआ। अगले दस वर्षो में एडिसन ने प्रकाश, उष्मा और शक्ति के लिए विद्युत के उत्पादन और त्रितारी वितरण प्रणाली के साधनों और विधियों पर प्रयोग किए भूमि के नीचे केबुल के लिए विद्युत के तार को रबड़ और कपड़े में लपेटने की पद्धति ढूँढी थी। डायनेमो और मोटर में सुधार किए; यात्रियों और माल ढोने के लिए विद्युत रेलगाड़ी तथा चलते जहाज से संदेश भेजने और प्राप्त करने की विधि का आविष्कार किया था ।

40 युद्धोपयोगी आविष्कार –

एडिसन ने क्षार संचायक बैटरी भी तैयार की थी लौह अयस्क को चुंबकीय विधि से गहन करने का प्रयोग किए, 1891 ई. में चलचित्र कैमरा पेटेंट कराया एवं इन चित्रों को प्रदर्शित करने के लिए किनैटोस्कोप का आविष्कार किया। प्रथम विश्वयुद्ध में एडिसन ने जलसेना सलाहकार बोर्ड का अध्यक्ष बनकर 40 युद्धोपयोगी आविष्कार किए। पनामा पैसिफ़िक प्रदर्शनी ने 21 अक्टूबर 1915 ई. को एडिसन दिवस का आयोजन करके विश्वकल्याण के लिए सबसे अधिक अविष्कारों के इस उपजाता को संमानित किया। 1927 ई. में एडिसन नैशनल ऐकैडमी ऑव साइंसेज़ के सदस्य निर्वाचित हुए। 21 अक्टूबर 1929 को राष्ट्रपति दूसरे ने अपने विशिष्ट अतिथि के रूप में एडिसन का अभिवादन किया था।

इसके बारेमे भी पढ़े :- सम्राट अशोक की जीवनी

मेनलो पार्क –

मेनलो पार्क, न्यू जिस में थॉमस अल्वा एडिसन ने अपना रिसर्च लैब बनाया था। यह पहला संस्थान था जहां जो सिर्फ आविष्कार को समर्पित था। वहां एडिसन आविष्कार करते और फिर उसका व्यावहारिक इस्तेमाल करते। फिर उसका बड़े पैमाने पर निर्माण होता था। मेनलो पार्क में बड़ी संख्या में एडिसन के कर्मचारी काम करते थे। ये आम कर्मचारी नहीं थे बल्कि आविष्कारकों की टीम थी जो एडिसन को आविष्कारों का आइडिया देते थे। 

थॉमस अल्वा एडिसन का आविष्कार –

उनके तीन प्रसिद्ध आविष्कार हैं। 

फोनोग्राफ: एडिसन का यह पहला सबसे बड़ा आविष्कार था। इससे वह काफी प्रसिद्ध हुए। यह पहली मशीन थी जिसमें आवाज को रिकॉर्ड और प्लेबैक किया जा सकता था।

लाइट बल्ब: उन्होंने इलेक्ट्रिक लाइट बल्ब बनाए जिसका घरों में इस्तेमाल होता है। उन्होंने लाइट बल्ब के लिए सहायक अन्य चीजें जैसे सेफ्टी फ्यूज और ऑन ऑफ स्विच बनाए।

मोशन पिक्चर: उन्होंने मोशन पिक्चर यानी बनाने पर काफी काम किया था। 

इसके बारेमे भी पढ़े :- माइकल जैक्सन की जीवनी

थॉमस एडिसन के प्रसिद्ध अविष्कारों की सूची –

  • इलैक्ट्रिक बल्ब
  • ग्रामोफोन
  • इलेक्ट्रॉनिक वोट रिकॉर्डर
  • फोनोग्राम
  • बैट्रीज़
  • कीनेटोस्कोप
  • इलेक्ट्रिक ट्रेन

एडिसन ने प्रेस ब्यूरों में किया काम –

सन 1866 में दुनिया को अपने अविष्कारों से जगमग करने वाले थॉमस एल्वा एडिसन लुइसविले, केंटुकी चले गए थे। जहां पर उन्होंने एसोसिएटेड प्रेस के ब्यूरो में भी काम किया। एडिसन ने वहां पर रात में अपनी ड्यूटी करवा ली थी, जिससे कि उन्हें अपने प्रयोगों के लिए ज्यादा समय मिल सके। वहीं एक दिन ऑफिस में वे बैटरी पर कुछ तेजाब से प्रयोग कर रहे थे, तभी तेजाब नीचे फर्श पर फैल गया। जिसके बाद थॉमस एल्वा एडिसन को नौकरी से बाहर निकाल दिया गया था।

थॉमस एल्वा एडिसन की मृत्यु –

सचमुच ,एडिसन एक महान वैज्ञानिक थे । 18 अक्टूबऱ 1931को 84 वष की उम में वैज्ञान के इस जादूगर ने विश्व से विदा ली । उनकी शवयात्रा में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट प्रमुख आइजन हूबर भी शामिल हुए थे। इलैक्ट्रिक बल्ब का अविष्कार करने वाले महान अविष्कारक थॉमस एल्वा एडिसन अपनी जिंदगी के आखिरी दिनों में भी अविष्कार कर रहे थे। वे एक महान वैज्ञानिक ही नहीं, बल्कि एक जाने-माने व्यापारी भी थे। थॉमस एल्वा एडिसन ने करीब 1093 अविष्कारों के पेटेंट अपने नाम किए थे।

इसके बारेमे भी पढ़े :- दिनेश कार्तिक की जीवनी

एडीसन के अनमोल विचार –

  • हमारी सबसे बड़ी कमजोरी हार मान लेना है. सफल होने का सबसे निश्चित तरीका है हमेशा एक और बार प्रयास करना। 
  • मैं असफल नहीं हुआ हूँ. मैंने 10,000 ऐसे तरीके खोज लिए हैं जो काम नहीं करते हैं। 
  • व्यस्त होने का मतलब हमेशा हकीकत में काम होना नहीं है। 
  • कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। 

Thomas Alva Edison Biography Video-

Thomas Alva Edison Facts –

  • 21 अक्टूबर 1879 ई. को एडिसन ने 40 घंटे से अधिक समय तक बिजली से जलनेवाला निर्वात बल्ब विश्व को भेंट किया था। 
  • महान वैज्ञानिक थॉमस एडिसन बहुत ही मेहनती थे लेकिन बचपन में उन्हें यह कहकर स्कूल से निकाल दिया गया कि वह मंद बुद्धि बालक है।
  • एडिसन 12 वर्ष की आयु में फलों और समाचारपत्रों के विक्रय का धंधा करके परिवार को प्रति दिन एक डालर की सहायता देने लगे थे ।
  • 1869 में एडिसन ने अपने सर्वप्रथम आविष्कार “विद्युत मतदानगणक” को पेटेंट कराया।
  • नौकरी छोड़कर प्रयोगशाला में आविष्कार करने का निश्चय कर निर्धन एडिसन ने अदम्य आत्मविश्वास का परिचय दिया।
  • 21 अक्टूबर 1929 को राष्ट्रपति दूसरे ने अपने विशिष्ट अतिथि के रूप में एडिसन का अभिवादन किया था। 

Thomas Alva Edison Questions –

1 .थॉमस अल्वा एडिसन का जन्म कब हुआ था ?

11 फ़रवरी 1847 के दिन थॉमस अल्वा एडिसन का जन्म अमेरिका में हुआ था। 

2 .थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब का आविष्कार कब किया ?

बल्ब का आविष्कार 21 अक्टूबर 1879 के दिन किया था।  

3 .थॉमस अल्वा एडिसन की मृत्यु कैसे हुई ?

उनकी मौत 18 अक्टूबऱ 1931को 84 वर्ष की उम्र में हुई थी। 

4 .थॉमस अल्वा एडिसन ने किसका आविष्कार किया था?

1093 अविष्कारों भेट थॉमस अल्वा एडिसन ने दी है। 

5 .बल्ब का आविष्कार कैसे हुआ?

बल्ब का आविष्कार 21 अक्टूबर 1879 के दिन थॉमस अल्वा एडिसन ने किया था। 

इसके बारेमे भी पढ़े :- राणा कुंभा की जीवनी

Conclusion –

दोस्तों आशा करता हु आपको मेरा यह आर्टिकल Thomas Alva Edison Biography In Hindi आपको बहुत अच्छी तरह से समज आ गया होगा और पसंद भी आया होगा । इस लेख के जरिये  हमने thomas edison education और thomas edison family से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दे दी है अगर आपको इस तरह के अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है। और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द ।

Leave a Reply

error: Sorry Bro
%d bloggers like this: