Nepolian Bona Part Biography In Hindi – नेपोलियन बोनापार्ट की जीवनी

Table of Contents

नमस्कार मित्रो आज के हमारे लेख में आपका स्वागत है आज हम nepolian bona part Biography In Hindi में विश्व के महान सेनापति पूरी दुनिया में एकछत्र शासन स्थापित करने वाले नेपोलियन बोनापार्ट सम्राट की जीवनी बताने वाले है। 

उसकी कार्य कुशलता इस तरह की थी कि पूरी दुनिया आज भी उन्हें उनके अद्भुत युद्ध कौशल के लिए याद करती है ,उनकी युद्धकौशल का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि विरोधी उनकी ख्याति से इतना घबरा गए कि उन्हें मारने के लिए ज़हर दे दिया था। आज nepolian bona part in hindi history में आपको nepolian bona part quotes in hindi , what did napoleon do ? और napoleon bonaparte french revolution की कहानी बताने वाले है।

आज हम बात कर रहे है विश्व के महान विजेताओं में से एक नेपोलियन बोनापार्ट की ,आज हम आपको nepolian bona part history बताते है। nepolian bona part thoughts बहुत ऊँचे हुआ करते थे उन्होंने एक विचार करलिया था की उनका शाशन पुरे विस्व पर चले सके तो चलिए उस महान व्यक्ति के व्यक्तित्व से आप सबको रूबरू करवाते है। 

Nepolian Bona Part Biography In Hindi –

नाम

नेपोलियन बोनापार्ट

जन्म

15 अगस्त 1769

जन्म स्थान

कोर्सिका के अजियाको में

पिता

कार्लो बोनापार्ट

माता

लेटीजिए रमोलिनो

विवाह

जोसेफीन , मैरी लुईस

पत्नि

जोसेफीन , मैरी लुईस

मृत्यु

1821

मृत्यु का कारण 

पेट का कैंसर

नेपोलियन बोनापार्ट की जीवनी –

 nepolian bona part date of birth15 अगस्त 1799 केको कोर्सिका के अजियाको में हुआ था, नेपोलियन फ्रैजस, फ्रांस में उतरा, जहां उन्होंने फ्रांसीसी निर्देशिका, फ्रांस के अलोकप्रिय शासी निकाय को उखाड़ने में मदद की। उन्हें नए स्थापित फ्रांसीसी वाणिज्य दूतावास में पहली कांसुल का नाम दिया गया था। 1800 में, उन्होंने अपनी सेना का नेतृत्व इटली में किया, जहां उन्होंने ऑस्ट्रियाई लोगों को हराया और इटली को फ्रांसीसी नियंत्रण में लाया।

nepolian bona part ने फ्रेंच और रोमन कैथोलिक के बीच सद्भाव बहाल किया और शिक्षा के पुनर्गठन के माध्यम से फ्रांस में सुधार की स्थिति, बैंक ऑफ फ्रांस की स्थापना और नेपोलियन संहिता को शुरू करने से फ्रांस के कानूनी प्रणाली में सुधार किया। नेपोलियन ने सरकार को केंद्रीकृत करके क्रांति के बाद फ्रांस की स्थिरता को बहाल करने, बैंकिंग प्रणाली जैसे सुधार संस्थानों और विज्ञान और कला का समर्थन करने के लिए काम किया।

इसे भी पढ़े :- सम्राट हर्षवर्धन की जीवनी

नेपोलियन बोनापार्ट कौन था – 

नेपोलियन शासन की सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक नेपोलियन संहिता थी, जो एक यूरोपीय कानून में नागरिक कानून प्रणाली के साथ स्थापित होने वाला पहला कानूनी कोड था। नेपोलियन संहिता यूरोपीय सीमाओं से परे देशों को प्रभावित करती थी क्योंकि नेपोलियन युद्धों के दौरान और बाद में बनाए गए कई देशों के कानूनों पर इसका अधिक प्रभाव पड़ा था।

nepolian bona part संहिता, कानूनों और लोगों के साथ विवाह, नागरिक अधिकार, अभिभावक-बच्चे के रिश्तों, संपत्ति और स्वामित्व सहित, विवाह के माध्यम से विरासत, अन्य अधिकारों के साथ निपटा। नेपोलियन ने यह भी आग्रह किया कि यूरोप के क्षेत्रों में यहूदी को भूमि और संपत्ति के मालिक होने और आज़ादी से पूजा करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

यद्यपि यह रूढ़िवादी चर्च से निंदा करता था, उनका मानना ​​था कि धार्मिक स्वतंत्रता एक यहूदी आबादी को फ़्रांसिसी-नियंत्रित क्षेत्रों में आकर्षित करेगी, इस प्रकार यहूदियों के साथ फ्रेंच समाज को एकजुट करेगा। हालांकि 1805 में, ब्रिटिश सेना ने फ्रांसीसी नौसेना की ताकत को नष्ट कर दिया, नेपोलियन ऑस्ट्रेलित्ज़ के युद्ध में ऑस्ट्रिया और रूस को हराकर सक्षम था। 

नेपोलियन बोनापार्ट ने ब्रिटिश और प्रशियाई सेनाओं को हराया –

1806 में, उसकी सेना ने प्रशियाई सेना को नष्ट कर दिया जून 1807 में, रूसी नेता अलेक्जेंडर ने टिसिल में शांति बनाकर नेपोलियन को पश्चिम और मध्य यूरोप के पुनर्गठन के लिए स्वतंत्र बनाया था।इंग्लैंड को चोट पहुंचाने के प्रयास में, उन्होंने कॉन्टिनेंटल सिस्टम की शुरुआत की, जिसने यूरोपीय व्यापार से यूरोपीय महाद्वीपीय बंदरगाहों को अवरुद्ध किया, और अधिकतर यूरोपीय शक्तियों को निराश किया।

मित्र देशों ने अक्टूबर 1813 में लेपज़िग की लड़ाई में नेपोलियन की सेना को हराया, और नेपोलियन को एक छोटे द्वीप में एल्बा, को निर्वासित किया गया। वह फ्रांस में वापस जाने और सत्ता को फिर से स्थापित करने से पहले केवल तीन सौ दिन पहले ही रहे। 1815 में, वाटरलू के युद्ध में नेपोलियन के शासन का विरोध करने के लिए यूरोपीय शक्तियों ने एक साथ शामिल हो गए।

18 जून 1815 को, नेपोलियन को ब्रिटिश और प्रशियाई सेनाओं ने हराया था, नेपोलियन को तीन दिन बाद ही पद छोड़ना पड़ा। नेपोलियन ने बाद में 3 जुलाई को ब्रिटिशों को आत्मसमर्पण किया और सेंट हेलेना के द्वीप पर निर्वासन में भेजा गया, जहां उनका कैंसर 5 मई, 1821 को हुआ।

नेपोलियन बोनापार्ट का जीवन परिचय – (Life Introduction of Napoleon Bonaparte)

15 अगस्त को कोर्सिका के अजियाको में नेपोलियन का जन्म हुआ था। कब्जे वाले फ्रांसीसी बलों ने द्वीप को चलाने के लिए इसे एक साल पहले जेनोआ से हासिल किया था। हालांकि स्थानीय मानकों से दूर, नेपोलियन के माता-पिता अमीर नहीं थे, और कुलीन वंश के उनके जोरदार दावे जांच के लिए खड़े नहीं हो पाए।

उनकी मां लेटिजिया और nepolian bona part father कार्लो कोर्सिका के पूंजीपति वर्ग का हिस्सा थे। एक बार फ्रांसीसी कब्जे के लिए कोर्सीकन के प्रतिरोध में शामिल होने के बाद, कार्लो ने फ्रांसीसी के साथ व्यक्तिगत शांति बना ली थी जब नेता पासक्वाले पाओली को भागने के लिए मजबूर किया गया था और शाही अदालत का मूल्यांकनकर्ता बन गया था। नेपोलियन के जन्म के संदर्भ में उनके उल्लेखनीय भविष्य पर संकेत दिया गया है।

नेपोलियन बोनापार्ट की शिक्षा –

वृद्ध नौ, नेपोलियन फ्रांस में स्कूल के लिए रवाना हुए। वह एक बाहरी व्यक्ति था, अपने नए घर के रीति-रिवाजों और परंपराओं में उलझा हुआ था।हमेशा सेना के लिए किस्मत में, नेपोलियन को पहले शिक्षित किया गया था, संक्षेप में, ऑटुन में, फिर पेरिस में सैन्य अकादमी में अंतिम वर्ष से पहले बेरेन में पांच साल। उन्होंने सितंबर 1785 में स्नातक की उपाधि प्राप्त की इसमें 58 की संख्या में 42 वें स्थान पर थे।

यह तब था जब वह पेरिस में थे कि नेपोलियन के पिता की मृत्यु हो गई, जिससे परिवार को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा। अभी तक 16 नहीं, और यहां तक ​​कि सबसे बड़े बेटे भी नहीं थे, फिर भी यह नेपोलियन था जिसने परिवार के प्रमुख के रूप में जिम्मेदारी संभाली थी। वृद्ध नौ, नेपोलियन फ्रांस में स्कूल के लिए रवाना हुए। वह एक बाहरी व्यक्ति था, अपने नए घर के रीति-रिवाजों और परंपराओं में उलझा हुआ था।

इसे भी पढ़े :- विलियम मॉरिस का जीवन परिचय

नेपोलियन बोनापार्ट का करियर- (Napoleon Bonaparte’s Career)

बाल्यवस्था में ही nepolian bona part family के भरण पोषण का उत्तरदायित्व कोमल कंधों पर आने के कारण उसे वातावरण की जटिलता अनुसार व्यवहार करने की कुशलता मिल थी। फ्रेंच क्रांति में उसका प्रवेश युगांतरकारी घटनाओं का संकेत दे रहा था। फ्रांस के विभिन्न वर्गों से संपर्क स्थापित करने में कोई संकोच या हिचकिचाहट नहीं थी।

उसने जैकोबिन दल में प्रवेश किया था। 20 जून के तुइलरिए के अधिकार के अवसर पर उसे घटनाओं से प्रत्यक्ष परिचय हुआ था। फ्रांस के राजतंत्र की दुर्दशा का उसे पूर्ण ज्ञान हो गया था। यहीं से नैपोलियन के विशाल व्यक्तित्व का आविर्भाव हुआ। nepolian bona part के उदय तक फ्रेंच क्रांति पूर्ण अराजकता में परिवर्तित हो चुकी थी। जैकोबिन और गिरंडिस्ट दलों की प्रतिद्वंद्विता और वैमनस्य के परिणाम स्वरूप ही  ‘आतंक का शासन’ संचालित किया गया था। 

जिसमें एक एक करके सभी क्रांतिकारी यहाँ तक कि स्वयं राब्सपियर भी मार डाला था। 1793 में टूलान के घेरे में नैपोलियन को प्रथम बार अपना शौर्य एवं कलाप्रदर्शन का अवसर मिला था। डाइरेक्टरी का एक प्रमुख शासक बैरास उसकी प्रतिभा से आकर्षित हो उठा।

 1795 में जब भीड़ कंर्वेशन को हुई थी।  तो डाइरेक्टरी द्वारा विशेष रूप से आयुक्त होने पर नैपोलियन ने कुशलतापूर्वक कंवेंशन की रक्षा की और संविधान को होने दिया। इन सफलताओं ने सारे फ्रांस का ध्यान नैपोलियन की ओर आकृष्ट किया।डाइरेक्टरी ने उसे इटली के अभियान का नेतृत्व दिया। 2 मार्च 1796 एक सप्ताह में उसने जोज़ेफीन से विवाह किया और  अपनी सेना सहित इटली में प्रवेश किया।

नेपोलियन बोनापार्ट राजा कैसे बने – (How did napoleon bonaparte become king)

नेपोलियन 16 साल का हुआ तब सेना के उच्च विभाग में नियुक्ति के लिए नेपोलियन का साक्षात्कार लिया गया जिसमे उनेक उत्तर सुनकर परीक्षक चकित रह गये | अब उन्हें तोपखाने की सेना में द्वितीय लेफ्टिनेट के पद मिल गया जिसमे आय भी थोड़ी ज्यादा थी | 1796 में उन्हें इटली की फ्रेंच सेना का कमांडर बना दिया गया

जहा उन्होंने आस्ट्रिया एव उसके मित्र राष्ट्रों को शान्ति कायम करने के लिए विवश किया | 1788 में उन्होंने ओटोमन द्वारा शाषित मिश्र को जीत लिया था |अब फ़्रांस एक नये संकट से झुझ रहा था जब आस्ट्रिया व् रूस , ब्रिटन के साथ मैत्री कर चुके थे | उधर तरफ नेपोलियन पेरिस लौट आ ये थे जहा सरकार संकट में थी |1799 में nepolian bona part को उनको फ़्रांस का वाणिज्यदूत चुना गया और 1804 में नेपोलियन को फ़्रांस का सम्राट घोषित किया गया। 

अब सरकार में आते ही नेपोलियन ने सरकार के केन्द्रीकरण , बैंक ऑफ़ फ्रांस के निर्माण , रोमन कैथोलिक धर्म की पुन: प्रतिष्ठा और कोड नेपोलियन की सहायता से कानून व्यस्व्स्था को दुरुस्त किया था| 1800 में नेपोलियन ने आस्ट्रिया को पराजित कर दिया था | उन्होंने एक जनरल यूरोपीयन शान्ति समझौता किया जिससे पुरे महाद्वीप पर फ्रेच सत्ता स्थापित हो गयी थी |

इसे भी पढ़े :- रॉबर्ट बर्न्स की जीवनी परिचय

Nepolian Bona Part Marriage – (नेपोलियन बोनापार्ट का विवाह)

नेपोलियन ने अपनी प्रथम पत्नी ‘जोसेफ़िन’ के निस्संतान रहने पर ऑस्ट्रिया के सम्राट की पुत्री ‘मैरी लुईस’ से दूसरा विवाह किया, जिससे उसे संतान प्राप्त हुई थी और पिता बन सका।

नेपोलियन बोनापार्ट ने कितने युद्ध किये थे – (How many wars did napoleon bonaparte)

nepolian bona part जब तक सत्ता में रहा युजिन रहारा यूरोप त्रस्त था। इन युद्धों को सम्मिलित रूप से नेपोलियन के युद्ध कहा जाता है। 1803 से लेकर 1819 तक कोई साठ युद्ध उसने लड़े थे जिसमें से सात में उसकी पराजय अपने अन्तिम दिनों में।

इन युद्धों के फलस्वरूप यूरोपीय सेनाओं में क्रान्तिकारी परिवर्तन हुए। परम्परागत रूप से इन युद्धों को 1972 में फ्रांसीसी क्रांति के समय शुरू हुए क्रांतिकारी युद्धों की शृंखला में ही रखा जाता है। आरम्भ में फ्रांस की शक्ति बड़ी तेजी से बढ़ी और नैपोलियन ने यूरोप का अधिकांश भाग अपने अधिकार में कर लिया। 1892 में रूस पर आक्रमण करने के बाद फ्रांस का बड़ी तेजी से पतन हुआ।

फ्रांस और इंग्लैण्ड का युद्ध – (nepolian bona part war of France and England)

मई 1803 में फ्रांस और इंग्लैण्ड में परस्पर युद्ध छिड़ गया। नेपोलियन ने इटली के पीडमांड राज्य को फ्रांस में सम्मिलित कर लिया, हालैण्ड को अपने अधिकार में करके वहां के एण्टवर्प बंदरगाह को जल सेना के लिए विस्तृत करना प्रारंभ कर दिया। उसके ये कार्य इंग्लैण्ड के हितों के विरूद्ध थे, इसलिए 18 मई 1803 को इंग्लैण्ड ने फ्रांस के विरूद्ध युद्ध घोषित कर दिया।

ट्रफलगार युद्ध –

21 अक्टूबर 1805 को फ्रांस और स्पेन की संयुक्त जल सेना और नेलसन के नेतृत्व वाली अंग्रेज जलसेना के मध्य ट्रफलगार के समीप समुद्र में भयंकर युद्ध हुआ। इसे ट्रफलगार का युद्ध कहते हैं।  यद्यपि इस युद्ध में नेलसन वीरगति को प्राप्त हुआ, पर इंग्लैण्ड की जलसेना ने फ्रांस और स्पेन की संयुक्त जल सेना को ट्रफलगार के युद्ध में परास्त कर दिया। फ्रांस की इस पराजय से नेपोलियन द्वारा समुद्र की ओर से इंग्लैण्ड पर आक्रमण करने का भय समाप्त हो गया।

इसे भी पढ़े :- राणा सांगा की जीवनी

फ्रांस और आस्ट्रिया के बिच युद्ध – (War between France and Australia)

nepolian bona part ने मेक के सेनापतित्व में आस्ट्रिया की सेना पर आक्रमण कर उसे 20 अक्टूबर 1805 के उल्म के युद्ध में परास्त कर दिया। इस विजय के बाद नेपालियन ने वियना पर अधिकार कर लिया। आस्ट्रिया का शासक फ्रांसिस द्वितीय वियना छोड़कर पूर्व की ओर चला गया।

ऑस्टरलिट्ज युद्ध – (Austerlitz war)

नेपोलियन ने रूस और आस्ट्रिया की संयुक्त सेनाओं को अक्टूबर 1805 को आस्टरलिट्ज के युद्ध में परास्त कर दिया। यह विजय नेपोलियन की महत्वपूर्ण विजयों में से थी। रूस ने इस पराजय के बाद अपनी सेनाएँ पीछे हटा लीं और आस्ट्रिया ने नेपोलियन के साथ 26 दिसम्बर 1805 ई. को प्रेसवर्ग की संधि कर ली। 

फ्रांस और रूस के बिच युद्ध – (War between France and Russia)

नेपोलियन के विरूद्ध जो तीसरा गुट (थर्ड कोलिएशन) निर्मित हुआ था उसमें अब इंग्लैण्ड और रूस ही शेष बचे थे, बाकी सदस्य देश नेपोलियन के हाथों परास्त हो चुके थे। नेपोलियन रूस की ओर आगे बढ़ा और 8 जनवरी 1807 को आइलो नामक स्थान पर दोनों सेनाओं में भीषण युद्ध हुआ। 14 जून 1807 को फ्रीडलैण्ड के युद्ध में नेपोलियन ने रूस को परास्त कर दिया।

इस पराजय के बाद रूस के सम्राट जार एलेक्जेंडर ने नीमेन नदी में एक शाही नाव में नेपोलियन से भेंट की। इस अवसर पर नेपोलियन ने अपने आकर्षक प्रभावशाली व्यक्तित्व और मधुर शिष्टाचार से जार को प्रसन्न कर लिया। अंत में टिलसिट नगर में फ्रांस, रूस और प्रशास के प्रतिनिधियों में टिलसिट की संधि हो गई।

नेपोलियन की हार कब हुई – 

नेपोलियन बोनापार्ट ने 60 युद्धों में भाग लिया जिसमें से केवल सात में हार का सामना किया जो उनके पतन के समय थे। वर्ष 1812 में नेपोलियन द्वारा रूस पर आक्रमण के पश्चात फ़्रांसीसी प्रभुत्व का तेजी से पतन हो गया। वर्ष 1894 मे नेपोलियन की हार हुई वो लोट गये और अन्त में वर्ष 1895 में वाटरलू के युद्ध में अन्तिम रूप से हार गये।

इसे भी पढ़े :-राजा महेन्द्र प्रताप की जीवनी

नेपोलियन बोनापार्ट की मृत्यु – 

फ़्रांस के सम्राट nepolian bona part की मौत को लेकर तरह-तरह की बातें कही जाती रही हैं लेकिन अधिकांश इतिहासकार ये मानते हैं कि उनकी मौत का कारण पेट का कैंसर था. वॉटरलू की लड़ाई में हार जाने के बाद नेपोलियन को 1821 में सेन्ट हैलेना द्वीप निर्वासित कर दिया गया था जहाँ 52 साल की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई। 

लेकिन सन 2001 में फ़्रांसीसी विशेषज्ञों ने नेपोलियन के बाल का परीक्षण करके पाया कि उसमें आर्सनिक नामक ज़हर था. ये कहा गया कि संभवत सेन्ट हैलेना के तत्कालीन ब्रिटिश गवर्नर ने फ़्रांस के काउंट के साथ मिलकर नेपोलियन की हत्या की साज़िश रची. फिर अमरीकी वैज्ञानिकों ने बिल्कुल ही अलग व्याख्या की. उन्होंने कहा कि नेपोलियन की बीमारी का जो उपचार किया गया उसी ने उन्हें मार दिया। 

उन्हें नियमित रूप से पोटेशियम टार्ट्रेट नामक ज़हरीला नमक दिया जाता था जिससे वो उलटी कर सकें और ऐनिमा लगाया जाता था. इससे उनमें पोटेशियम की कमी हो गई जो कि दिल के लिए घातक होती है. नेपोलियन को उनकी आंतों की सफ़ाई के लिए 600 मिलिग्राम मरक्यूरिक क्लोराइड दिया गया और दो दिन बाद nepolian bona part death हो गई। 

Nepolian Bona Part Video – (नेपोलियन बोनापार्ट वीडियो)

Nepolian Bona Part Facts – (नेपोलियन बोनापार्ट के 10 रोचक तथ्य)

  • नेपोलियन का जन्म 15 अगस्त को कोर्सिका के अजियाको में हुआ था। 
  • पेरिस में सैन्य अकादमी में  सितंबर 1785 में स्नातक की उपाधि प्राप्त की इसमें 58 की संख्या में 42 वें स्थान पर थे।
  • नेपोलियन बोनापार्ट ने 60 युद्धों में भाग लिया जिसमें से केवल सात में हार का सामना किया था। 
  • 1812 में नेपोलियन द्वारा रूस पर आक्रमण के पश्चात फ़्रांसीसी प्रभुत्व का तेजी से पतन हो गया। 
  • मेक के सेनापतित्व में आस्ट्रिया की सेना पर आक्रमण कर उसे 20 अक्टूबर 1805 के उल्म के युद्ध में परास्त कर दिया।
  • 2001 में फ़्रांसीसी विशेषज्ञों ने नेपोलियन के बाल का परीक्षण करके कहाकी उसमें आर्सनिक नामक ज़हर था। 
  • नेपोलियन रूस की और 8 जनवरी 1807 को आइलो नामक स्थान पर दोनों सेनाओं में भीषण लड़ाई हुई एव रूस को परास्त कर दिया।
  • पेरिस में सैन्य अकादमी में अंतिम वर्ष से पहले बेरेन में पांच साल नेपोलियन ने सितंबर 1785 में स्नातक  हुए थे। 
  • नेपोलियन को उनकी आंतों की सफ़ाई के लिए 600 मिलिग्राम मरक्यूरिक क्लोराइड दिया गया था। 
  • वॉटरलू की लड़ाई में हार जाने के बाद नेपोलियन 1821 में सेन्ट हैलेना द्वीप निर्वासित किया जहाँ 52 साल की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई। 

इसे भी पढ़े :- भक्त सूरदास की जीवनी

Nepolian Bona Part questions – (नेपोलियन बोनापार्ट प्रश्न)

1 .नेपोलियम बोनापार्ट का जन्म कब और कहा हुवा था ?

15 अगस्त 1769 कोर्सिका के अजियाको में नेपोलियन का जन्म हुआ था।

2 .नेपोलियम बोनापार्ट के माता-पिता कौन है ?

नेपोलियम बोनापार्ट के पिता का नाम कार्लो और माता का नाम लेटिजिया है। 

3 .नेपोलियम बोनापार्ट को फ़्रांस का सम्राट कब घोषित किया था ?

nepolian bona part को  1804 में फ़्रांस का सम्राट घोषित किया गया। 

4 .नेपोलियम बोनापार्ट ने कितने युद्ध लड़े थे?

राजा नेपोलियम बोनापार्ट ने करीबन 60 युद्ध लडे थे। 

5 .नेपोलियम बोनापार्ट ने 60 युद्धों में से कितने युद्ध हार गया था ?

60 युद्धों में 7 युद्ध में नेपोलियम बोनापार्ट को पराजय का सामना करना पड़ा था। 

6 .सन 2001 में फ़्रांसीसी विशेषज्ञों ने नेपोलियन के बाल के परीक्षण में क्या पाया गया है ?

2001 में फ़्रांसीसी विशेषज्ञों ने नेपोलियन के बाल का परीक्षण करके पाया कि उसमें आर्सनिक ज़हर था। 

7 .नेपोलियम बोनापार्ट ने कब रूस को परास्त किया था ?

14 जून 1807 को फ्रीडलैण्ड के युद्ध में नेपोलियन ने रूस को परास्त कर दिया।

8 .नेपोलियम बोनापार्ट ने अंतिम युद्ध कौनसा लड़ा था ?

अंतिम वॉटरलू की लड़ाई लड़ी ,उसमे नेपोलियम को हार का सामना करना पड़ा था। 

9 .नेपोलियम बोनापार्ट की वाइफ कौन थी ?

 जोसेफ़िन’ और ‘मैरी लुईस’ नेपोलियन की पत्नी थी। 

10 .नेपोलियम बोनापार्ट का अवसान कब हुवा था ?

1821 में सेन्ट हैलेना द्वीप पर  नेपोलियन की 52 वर्ष की उम्र में मृत्यु हो गई। 

इसे भी पढ़े :- चाँद बीबी की जीवनी

Conclusion –

दोस्तों आशा करता हु आपको मेरा यह आर्टिकल napoleon bonaparte biography In Hindi पूरी तरह से समज आ गया होगा और बहुत पसंद भी आया होगा । इस लेख के जरिये  हमने how did napoleon die ? ,who was napoleon bonaparte और empress josephine से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दे दी है अगर आपको इस तरह के अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है। और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द ।

1 thought on “Nepolian Bona Part Biography In Hindi – नेपोलियन बोनापार्ट की जीवनी”

  1. Pingback: राजा महेन्द्र प्रताप जीवन - Raja Mahendra Pratap Life Introduction In Hindi

Leave a Reply

error: Sorry Bro
%d bloggers like this: