Mahendra Singh Dhoni Biography In Hindi – महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी

आज के हमारे लेख में आपका स्वागत है। नमस्कार मित्रो आज हम,Mahendra Singh Dhoni Biography In Hindi में भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय बताने वाले है। 

एक साधारण इंसान से महान क्रिकेटर बनने के लिए उन्होंने बहुत मेहनत की हुई है। तब दुनियां भर के महान क्रिकेटरों में और एक कामयाब खिलाड़ी अपना नाम कर सके हैं। आज हम mahendra singh dhoni family और mahendra singh dhoni cast की जानकारी भी देने वाले है। mahendra singh dhoni wife का नाम साक्षी सिंह रावत है। उन्होंने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया है। ms dhoni ने क्रिकेट खेलने की शुरुआत स्कूलों के दिनों से की थी। लेकिन इंडियन टीम का हिस्सा बनने के लिए कई साल लग गए। 

जैसे ही धोनी को देश के लिए खेलने का मौका मिला तो मौके का बखूबी फायदा उठया एव धीरे से अपने आपको को क्रिकेट की दुनिया में स्थापित कर दिखाया है। वर्ष 2020 15 अगस्त के दिन इस महान खिलाड़ी और सर्वश्रेष्ठ कप्तान ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास की घोषणा कर दी है। चाहने वालो के लिए यह एक बहुत ही गमगीन पल था। वह एक ऐसे खिलाड़ी थे जिसे देखने के लिए दुनियां के कई लोग क्रिकेट देखा करते थे। 

Mahendra Singh Dhoni Biography In Hindi –

 नाम  महेन्द्र सिंह धोनी ( ms dhoni )
 उप नाम  माही, एमएस धोनी
 जन्म  जुलाई 1981
 जन्म स्थान  रांची, बिहार, भारत
ms dhoni father  पान सिंह
 माता   देवकी देवी
 पत्नी  साक्षी सिंह रावत (sakshi dhoni)
 शिक्षा  12 वीं कक्षा पास
 भाई  नरेंद्र सिंह
 बहन  जयंती गुप्ता
 बच्चे  जीवा (लड़की)
 पेशा  क्रिकेटर और भारत के पूर्व कप्तान

एम. एस। धोनी एक सफल कप्तान के रूप में –

महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेटर और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान हैं। यह भारत के एक दिवसीय अंतराष्ट्रीय के सबसे सफल कप्तान हैं। शुरुआत में यह एक असाधारण उज्जवल और आक्रामक बल्लेबाज के रूप में जाने जाते थे| इनकी कप्तानी में भारत ने कई ट्रॉफी जीती। 

  • 2007 आईसीसी विश्व 20-20
  • 2007-2008 कॉमनवेल्थ बैंक सीरीज
  • 2011 क्रिकेट विश्व कप
  • आईसीसी चैम्पियन ट्रॉफी 2013

बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी भी जीती जिसमे भारत ने ऑस्ट्रेलिया की टीम को 4-0 से हराया| उन्होंने भारतीय टीम को श्रीलंका और न्यूजीलैंड में पहली अतिरिक्त वनडे सीरिज हराई। 2 सितम्बर, 2014 को इन्होंने भारत को 24 साल बाद इंग्लैंड में वनडे सीरीज जिताई थी। 

इसके बारेमे भी जानिए :- 

Mahendra Singh Dhoni Awards – 

2008 में आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ़ द ईयर अवार्ड इस अवार्ड पाने वाले वह पहले भारतीय क्रिकेटर हुए जिसे यह अवार्ड मिला है। 

राजीव गाँधी खेल रत्न पुरुष्कार

2009 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान

पद्मश्री पुरुष्कार 

2009 में विस्डन के सर्वप्रथम ड्रीम टेस्ट ग्यारह टीम में धोनी को कप्तानी का दर्जा दिया गया। उनकी कप्तानी में भारत ने 28 साल बाद एक दिवसीय क्रिकेट विश्व कप में दुबारा जीत हासिल की| सन् 2013 में इनकी कप्तानी में भारत ने पहली बार आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी का खिताब जीता था। ms dhoni विश्व के पहले ऐसे कप्तान हैं। जिसके पास आईसीसी के सारे कप हैं। साल 2014 में इन्होंने टेस्ट क्रिकेट में कप्तानी छोड़ दी।    

इनके इस फैसले से सभी चौंक गए थे| एमएस धोनी ऐसे चौथे भारतीय और दूसरे विकेट कीपर हैं जिसने ओ डी आई में 10,000 रन बनाएँ हो| यह कीर्तिमान उन्होंने 14 जुलाई, 2018 को अपने नाम किया था। धोनी ने लगातार दूसरी बार क्रिकेट विश्व कप में 2014 में भारत का नेतृत्व किया और पहली बार भारत ने ग्रुप के सारे मैच जीते और साथ ही इन्होंने साल 2011 विश्व कप में मैच जीतकर नया रिकॉर्ड भी बनाया है। 

बचपन में जीता मैच हारने पर कोचने डाटा और सजा दी –

Mahendra Singh Dhoni – फुटबॉल टीम में गोलकीपिंग करने वाले शर्मीले से लड़के को अचानक क्रिकेट टीम में विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी देने वाले महेंद्र सिंह धोनी के बचपन के कोच केशव बनर्जी ने उनके संन्यास के फैसले पर कहा है। उसका हर फैसला यूं ही सरप्राइज होता है। वह खुद जानता है। कि उसे कब संन्यास लेना है। किसी को उसे बताने की जरूरत नहीं है। यही बात उसे अलग बनाती है। उन्होंने अतीत के पन्ने खोलते हुए उस दिन के बारे में बताया कि जब धोनी को मैच हारने पर सजा मिली थी।

बचपन में कोच बनर्जी बोले और माहि ने रास्ता खुद चुना –

उन्होंने कहा कि यही सोचकर मैं उसे फुटबॉल से क्रिकेट में लाया। अपने उस फैसले पर मुझे हमेशा नाज रहेगा। उन्होंने कहा कि कैप्टन कूल ms dhoni बचपन से ही बहुत शांत था और उसमें गजब की सहनशीलता थी।उन्होंने कहा कि सफलता के शिखर तक पहुंचने के बाद भी उसकी यह खूबी बनी रही जो काबिले तारीफ है। स्कूली दिनों का एक किस्सा याद करते हुए।

उन्होंने कहा कि एक बार हमारी टीम जीता हुआ मैच हार गई तो मुझे बहुत गुस्सा आया और मैने कहा कि सीनियर खिलाड़ी बस में नहीं जाएंगे और पैदल आएंगे। वह कुछ और सीनियर के साथ दो तीन किलोमीटर पैदल चलकर आया और कुछ नहीं बोला। चुपचाप किट बैग लेकर घर चला गया। 

इसके बारेमे भी जानिए :- युवराज सिंह की जीवनी

महेन्द्र सिंह धोनी का परिवार – Mahendra Singh Dhoni Family

धोनी के परिवार में इनके माता और पिताजी के अलावा उनकी पत्नी और एक बेटी, एक भाई और ms dhoni sister भी  हैं। इनकी बड़ी बहन एक अध्यापिका और भाई एक राजनेता हैं। धोनी के पिता पान सिंह मेकॉन कम्पनी के काम किया करते थे। और उनकी माता का नाम देवकी देवी हैं| इनका परिवार का नाता उत्तराखंड राज्य से हैं लेकिन इन के पिता कार्य के चलते झारखण्ड राज्य आकर रहने लगे थे। जिसके बाद से यह यही के निवासी हो गए। 

महेन्द्र सिंह धोनी का क्रिकेट करियर –

Mahendra Singh Dhoni – महेंद्र सिंह धोनी को 1999 में अपना पहला रणजी मैच खेलने को मिला और यह पहला मैच इन्होंने बिहार राज्य की तरफ से खेलते हुए असम की टीम के खिलाफ खेला|महेंद्र सिंह धोनी ने इस मैच के दूसरे पारी में 68 रन बनाए थे। जबकि ट्रॉफी के इस सत्र में इन्होंने 5 मैचों में 283 रन बनाए| परन्तु महेंद्र सिंह धोनी के इस लाजवाब प्रदर्शन के बाद भी ईस्ट जोन सिलेक्टर्स ने इनका चयन नहीं किया|

जिसके कारण धोनी ने कुछ समय तक खेल से दूरी बना ली और साल 2001 में कोलकाता राज्य में रेलवे विभाग में बतौर टिकट कलेक्टर के रूप में काम करने लगे। इसके बाद इन्होंने अपने क्रिकेट करियर पर ध्यान देना शुरू किया| इसके बाद धोनी का चयन साल 2001 में दिलीप ट्रॉफी में हो गया। 

लेकिन धोनी को अपने चयन की जानकारी बहुत देर में पता हुई|लेकिन धोनी का मन इस कार्य में नहीं लगा और महेंद्र सिंह धोनी ने तीन साल के अंदर ही इस नौकरी को छोड़ दिया। इस कारण धोनी दिलीप ट्रॉफी में हिस्सा नहीं ले सके| साल 2003 में जमशेदपुर प्रतिभा संसाधन विकास विंग के हुए मैच में खेलते हुए बंगाल के पूर्व कप्तान प्रकाश पोद्दार ने देखा था। 

Mahendra Singh Dhoni International Cricket Career –

जिसके बाद इन्होंने धोनी के खेल की जानकारी राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी को दी और इस तरह धोनी का चयन बिहार Under-19 टीम में हो गया। महेंद्र सिंह धोनी ने साल 2003-2004 के देवधर ट्रॉफी के टूर्नामेंट में भी हिस्सा लिया था और धोनी पूर्वी जोन टीम का हिस्सा था|

देवधर ट्रॉफी का यह सीजन इनकी टीम ने ही जीता| महेंद्र सिंह धोनी ने इस सीजन में कुल 4 मैच खेले थे जिनमें इन्होंने 244 रन बनाए। साल 2004 में महेंद्र सिंह धोनी का चयन “इंडिया-A” की टीम के लिए कर लिया गया था| India-A टीम की ओर से अपना पहला मैच खेलते हुए, महेंद्र सिंह धोनी ने जिम्बावे के खिलाफ बहुत अच्छा प्रदर्शन दिखाया|

केन्या ए, भारत ए और पाकिस्तान ए इन तीन देशों के बीच चल रही श्रृंखला में भी महेंद्र सिंह धोनी ने बहुत अच्छा प्रदर्शन दिखाया और पाकिस्तान ए टीम की ओर से खेले हुए मैच में अपने अर्धशतक से Mahendra Singh Dhoni ने भारतीय टीम को जीत दिलाई थी। 

इसके बारेमे भी जानिए :-

Mahendra Singh Dhoni One Day Career –

साल 2004-2005 में भारतीय टीम ने बांग्लादेश का दौरा किया था उस दौरे पर राहुल द्रविड़ को विकेटकीपिंग पर रखा गया जिससे कि बल्लेबाजी में कोई कमी ना आये। भारतीय क्रिकेट में उस समय पार्थिव पटेल और दिनेश कार्तिक जैसे प्रतिभाशाली विकेटकीपर और बल्लेबाज जो कि जूनियर की शैली में गिने जाते थे। यह दोनों ही टेस्ट Under-19 के कप्तान रह चुके हैं| हालाँकि महेंद्र सिंह धोनी ने उस समय अपनी पहचान भारत ए टीम में बना ली थी। 

जिस कारण इन्हें बांग्लादेश दौरे के लिए टीम इंडिया में चुन लिया गया था| धोनी के एक दिवसीय करियर की शुरुआत कुछ ख़ास नहीं रही। श्रृंखला के दूसरे और अपने करियर के पाँचवे मैच में उन्होंने 123 गेंदों पर 148 रनों की शानदार पारी खेली| 148 रन बनाकर Mahendra Singh Dhoni ने विकेटकीपर होते हुए एक मैच में सर्वाधिक रन बनाए|

वह अपने पहले ही मैच में शून्य पर रन आउट हो गए थे| बांग्लादेश में उनका प्रदर्शन कुछ ख़ास नहीं रहा परन्तु फिर भी उन्हें पाकिस्तान के खिलाफ वनडे श्रृंखला के चुन लिया गया था। श्रीलंका क्रिकेट टीम के खिलाफ द्विपक्षीय एक दिवसीय श्रृंखला में धोनी को पहले दो मैचों में धोनी को बल्लेबाजी के लिए कुछ ही अवसर मिले और तो उन्होंने तीसरे मैच में तीसरे नंबर पर आने के लिए प्रोत्साहित किया गया था|

माहि का 2007 का विश्व कप –

वेस्ट इंडीज में पहली बार 2007 में क्रिकेट विश्व कप खेला जा रहा था| साल 2007 के विश्व क्रिकेट में राहुल द्रविड़ को कप्तान चुना गया था। इस टूर्नामेंट में कुल 16 टीमों ने हिस्सा लिया और इन 16 टीमों को चार भागों में बाँटा गया था। सारी टीमें अपने ग्रुप की 3 टीमों से मैच खेलने वाली थी। श्रीलंका,भारत और बर्म्युडा यह तीन देश भारत के ग्रुप में थे। 

महेंद्र सिंह धोनी ने इस टूर्नामेंट में केवल 3 मैचों में 29 रन बनाए| इंडियन टीम साल 2007 में पहली बार इस टूर्नामेंट से बाहर निकल गई थी । महेंद्र सिंह धोनी वजन 70 kg है। और वर्तमान समय में महेंद्र सिंह धोनी आयु (sakshi dhoni age) 34 वर्ष है। 

इसके बारेमे भी जानिए :- नील आर्मस्ट्रांग की जीवनी

महेंद्र सिंह धोनी का 2011 का विश्व कप –

साल 2011 में भारत ने बांग्लादेश को अपने पहले मैच में हराकर टूर्नामेंट की mahendra singh dhoni stats की थी।  धोनी ने अपने ग्रुप स्टेज में नीदरलैंड,आयरलैंड और वेस्ट इंडीज के खिलाफ जीत हासिल की थी। भारत ने पाकिस्तान को सेमी फाइनल में हराया| फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ भारत को विश्व कप जीताने में महेंद्र सिंह धोनी ने चेस करते हुए 91 रन की मैच जीताऊ पारी खेली थी। इस प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ़ द मैच पुरुष्कार से भी सम्मानित किया गया था।

महेंद्र सिंह धोनी के रिकार्ड्स। आपको बता दे महेंद्र सिंह धोनी एक ऐसे विकेटकीपर जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 4000 रन बनाए है| इनसे पहले ऐसा किसी भी भारतीय विकेटकीपर ने नहीं किया था। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने कूल 27 टेस्ट मैचों में जीत हासिल की है| जिसमें महेंद्र सिंह धोनी के टेस्ट क्रिकेट में सबसे सफल भारतीय टेस्ट कप्तान होने का रिकॉर्ड दर्ज हैं। 

Mahendra Singh Dhoni World cup –

माहिकी कप्तानी में भारतीय टीम ने नीचे दिये गए नाम के वर्ल्ड कप जीते है। जिसके साथ ही यह ऐसे कप्तान बन गए।  जिसने सभी तरह के ICC Tournament Cup जीते हो|

ICC Tournament किस साल जीता कप

  • टी-20 वर्ल्ड कप 2007
  • ऑडीआई 2011
  • चैंपियन ट्रॉफी 2013

Mahendra Singh Dhoni ने अपनी कप्तानी में कुल 331 इंटरनेशनल मैच खेले हैं| यह पहले ऐसे कप्तान हैं जिन्होंने सबसे ज्यादा इंटरनेशनल मैच खेले हैं। इन्होने इंटरनेशनल मैचों में 204 छक्के मारे है| जिसके साथ Mahendra Singh Dhoni ने सबसे ज्यादा छक्के मारने वाले कप्तान का भी खिताब जीता। कप्तान के रूप में सबसे अधिक मैच जीतने का भी खिताब महेंद्र सिंह धोनी नाम है। 

धोनी के बारे में कुछ बाते – 

1. महेंद्र सिंह धोनी इकलौते ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आईसीसी की तीनों बड़ी ट्रॉफ़ी पर कब्ज़ा जमाया है. धोनी की कप्तानी में भारत आईसीसी की वर्ल्ड-टी20 (2007 में), क्रिकेट वर्ल्ड कप (2011 में) और आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफ़ी (2013 में) का खिताब जीत चुका है। 

2. धोनी का पहला प्यार फुटबॉल रहा है. वे अपने स्कूल की टीम में गोलकीपर थे. फुटबॉल से उनका प्रेम रह रहकर ज़ाहिर होता रहा है. इंडियन सुपर लीग में वे उन्होंने चेन्यैन एफ़सी टीम के मालिक भी हैं. फुटबॉल के बाद उन्हें बैडमिंटन भी ख़ूब पसंद था। 

3. इन खेलों के अलावा धोनी को मोटर रेसिंग से भी ख़ासा लगाव रहा है. उन्होंने मोटररेसिंग में माही रेसिंग टीम के नाम से एक टीम भी खरीदी हुई है। 

4. महेंद्र सिंह धोनी अपने बालों के स्टाइल के लिए भी मशहूर रहे हैं. कभी लंबे बालों के लिए जाने जाने वाले धोनी समय समय पर हेयर स्टाइल बदलते रहे हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि धोनी फिल्म स्टार जान अब्राहम के बालों के दीवाने रहे हैं। 

5. महेंद्र सिंह धोनी 2011 में भारतीय सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल बनाए गए. धोनी कई बार ये कह चुके हैं कि भारतीय सेना में शामिल होना उनके बचपन का सपना था। 

इसके बारेमे भी जानिए :- औरंगजेब की जीवनी

Mahendra Singh Dhoni Biography video –

Mahendra Singh Dhoni Interesting Facts –

  • 2015 में आगरा स्थित भारतीय सेना के पैरा रेजिमेंट से पैरा जंप लगाने वाले पहले स्पोर्ट्स पर्सन बने है।
  • पैरा ट्रूपर ट्रेनिंग स्कूल से ट्रेनिंग लेने के बाद करीब 15, 000 फ़ीट की ऊंचाई से पांच छलांगें लगाई्ं, जिनमें एक छलांग रात में लगाई गईं थीं। 
  • महेंद्र सिंह धोनी मोटरबाइक्स के ख़ासे दीवाने हैं। उनके पास दो दर्जन आधुनिकतम मोटर बाइक मौजूद हैं। उन्हें कारों का भी बड़ा शौक है। उनके पास हमर जैसी कई महंगी कारें हैं। 
  • महेंद्र सिंह धोनी का नाम कई हाई प्रोफाइल अभिनेत्रियों से जुड़ा गया। 
  • लेकिन महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी रावत से चार जुलाई, 2010 को शादी की है। धोनी और साक्षी की एक बेटी है, जिसका नाम जीवा है। 
  • एमएस धोनी को बतौर क्रिकेटर पहली नौकरी भारतीय रेलवे में टिकट कलेक्टर के तौर पर मिली थी।
  • बाद वे एयर इंडिया की नौकरी करने लगे। फिर एन श्रीनिवासन की कंपनी इंडिया सीमेंट्स में अधिकारी बन गए। 
  • Mahendra Singh Dhoni दुनिया भर में सबसे ज़्यादा कमाई करने वाले क्रिकेटर रहे हैं। टेस्ट से संन्यास लेने से पहले धोनी की सैलरी 150 से 190 करोड़ रुपये सालाना थी। 

Mahendra Singh Dhoni Questions –

1 .mahendr sinh dhonee net varth kya hai ?

महेंद्र सिंह धोनी नेट वर्थ 111 मिलियन डॉलर यानी 8 अरब 35 करोड़ रुपये के आसपास है। 

2 .mahendr sinh dhonee ka nik nem kya hai ?

महेंद्र सिंह धोनी का निक नेम Ms,Msd और Mahi है।

3 .mahendr sinh dhonee ka janm kahaan hua tha ?

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म Ranchi हुआ था। 

4 .mahendr sinh dhonee ke baare mein jaanakaaree kya hai ?

महेंद्र सिंह धोनी (एम एस धोनी) झारखंड, रांची के एक राजपूत परिवार में जन्मे पद्म भूषण, पद्म श्री और राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित क्रिकेट खिलाड़ी हैं।

5 .mahendr sinh dhonee kahaan ke rahane vaale hain ?

महेंद्र सिंह धोनी उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले का रहने वाले है। 

6 .mahendr sinh dhonee oonchaee kitanee hai ?

महेंद्र सिंह धोनी ऊंचाई 1.75 m है

7 .mahendr sinh dhonee vivaah dinaank kya hai ?

महेंद्र सिंह धोनी विवाह दिनांक 4 July 2010 है। 

8 .mahendr sinh dhonee kee umr kya hai ?

 महेंद्र सिंह धोनी की उम्र 40 वर्ष है।

इसके बारेमे भी जानिए :- कस्तूरबा गांधी की जीवनी

Conclusion –

आपको मेरा आर्टिकल महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। लेख के जरिये  हमने mahendra singh dhoni net worth और madhu sharma rakesh sharma से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है। अगर आपको अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है। तो कमेंट करके जरूर बता सकते है। हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

3 thoughts on “Mahendra Singh Dhoni Biography In Hindi – महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी”

  1. Pingback: Yuvraj Singh Biography In Hindi Me Janakari - Thebiohindi

  2. Pingback: Rakesh Sharma Biography In Hindi Me Janakari - Thebiohindi

  3. Pingback: Mother Teresa Biography In Hindi Me Janakari - Thebiohindi

Leave a Reply

error: Sorry Bro
%d bloggers like this: