VK Singh Biography In Hindi – वीके सिंह की जीवनी हिंदी

नमस्कार दोस्तों आज के हमारे आर्टिकल में आपका स्वागत है , आज हम vk singh biography की जानकारी देने वाले है। वह भारतीय सेना के निवृत सेना नायक और 2014 के चुनावो से भाजपा के राजनेता बने हुए है। 

आज v.k. singh education कहा से प्राप्त किया है ? क्या vk singh which infantry regiment है ? उनकी पत्नी bharti singh vk singh क्या करते है ? और bikram singh और dalbir singh suhag उनके क्या लगते है। वह इंडियन आर्मी में कर्नल थे अब भाजपा में ज्वाइन होचुके है और 2014 के चुनावो में अपनी जित दर्ज करवा चुके है। vk singh Twitter अकॉउंट पे कितने फ़ॉलोअर्स है इसकी सभी माहिती आज इस पोस्ट में मिलने वाली है 

 वह वर्तमान समय में गाज़ियाबाद लोकसभा खेत्र से चुनाव में खड़े हुए थे और उन्होंने जित के सांसद बने है , सांसद के चुनाव में उन्होंने दो बार जित हासिल की है और परिवहन एवं राष्ट्रीय राज्यमार्ग राज्य मंत्री और भारतीय सेना प्रमुख रहे है। वह पहले ऐसे प्रशिक्षित कमांडो है जो जनरल के पद पर पहुंचे है। तो चलिए उन्ही की सम्पूर्ण माहिती से आपको ज्ञात करवाते है। 

VK Singh Biography In Hindi –

  नाम

  जनरल विजय कुमार सिंह

  जन्म

  10 मई 1951

  जन्म स्थान 

  बापोरा , भिवानी, भारत

  पिता

  जगत सिंह

  माता

  कृष्‍णा कुमारी

  पत्नी

  भारती सिंह

  निष्ठा

  भारत

  सेवा

  भारतीय सेना

  सेवा वर्ष

  1970–2012

  उपाधि

  जनरल

वीके सिंह का जीवनी –

प्राचीन काल से ही भारत देश की भूमि वीर पुरुषो की जन्म भूमि रही है। और जब जब भी देश को विरो की जरुरत पड़ती है तो भारत के वीर सपूत युद्ध में अपनी जान की परवाह किये बिना मातृ भूमि की रक्षा करते रहते है। और लड़ते लड़ते अपने प्राण त्याग देके अपना नाम अमर कर देते है।10 मई 1951 के दिन भारत के भिवानी जिल्ले के बापोरा गांव में जन्मे जनरल विजय कुमार सिंह के दादा और पिताजी इंडियन आर्मी में कर्नल थे।

इसे भी पढ़े :- दिव्या भारती की जीवनी

vk सिंह का जन्म और शिक्षा –

vk singh का जन्म 10 मई1951 को हरियाणा राज्य के भिवानी जिल्ले के एक नन्हे गांव बपोरा में हुआ था। vk सिंह ने अपनी पढाई राजस्‍थान राज्य के पिलानी जिल्ले में स्थित बिड़ला महाविध्यालय से शिक्षा प्राप्त की है। v. k. singh पूरा नाम जनरल विजय कुमार सिंह है और vk singh भारतीय सेना में कर्नल थे।वर्तमान समय में गाजियाबाद के संसद है उनकी माता का नाम कृष्‍णा कुमारी और पिताजी का नाम जगत सिंह है।

उनके उनके पिता भारतीय सेना में कर्नल थे और उनके दादा भी भारतीय सेना में कर्नल है यानी vk singh family तीन पीढ़ी से भारत देश की सेना में कार्यरत है।vk singh के दादा सेना में जेसीओ थे। vk singh की शादी 1975 में हुई थी general vk singh wife name भारती सिंह है। general vk singh daughter का नाम मृणालिनी है वह भी एक फौजी है। और फौजी से ही तारलुक रखती है।

vk singh का नेतृत्व –

  • राजपूत रेजीमेंट के कर्नल
  • भारत के राष्ट्रपति को माननीय सैन्यादेशवाहक
  • जीओसी-इन-सी पूर्वी कमान
  • ब्रिगेड ऑफ गार्डस के मानद कर्नल
  • जीओसी राष्ट्रीय राइफल्स फोर्स
  • कमांडर इन्फैंट्री ब्रिगेड
  • जीओसी खड्ग वाहिनी
  • सीओ २ राजपूत

युद्ध :

  • ऑपरेशन पवन
  • 1971 का भारत-पाक युद्ध

सम्मान :

  • युद्ध सेवा मैडल
  • अति विशिष्ट सेवा मैडल
  • परम विशिष्ट सेवा मैडल

vk singh का आर्मी करियर –

वीके सिंह ने 17 जून, 1970 के दिन भारतीय सेना के rajput रेजीमेंट की दूसरी बटालियन में दाखिला लिया था। तब यह बटालियन पाकिस्तान देश से जुडी सिमा नियंत्रण पे तैनात थी। vk singh ने डिफेंस सर्विसेज कॉलेज से आर्मी की ट्रैनिग प्राप्त की थी। वीके सिंह का वह रेंजर्स स्नातक कोर्स था। पेंसिलवैनिया और कार्लीस्ल के आर्मी कॉलेज से अपनी पढ़ाई प्राप्त की थी।

vk singh ips को हाई एल्टीट्यूड ऑपरेशन्स और काउंटर इंसरजेंसी ऑपरेशन्स क पूरी जानकारी थी। बांग्लादेश से लड़ाई की कार्यवाही में general vk singh ने भाग लिया था। काउंटर इंसरजेंसी फोर्स को कमाण्ड करने के समय के लिए vk singh को आर्मी की और से एवीएसएम मैडल दिया गया था। 31 मार्च, 2010 को gen vk singh को भारत देश के सेना प्रमुख बनाया गया था। 

जन्म तिथि का विवाद –

वीके सिंह सेना सेवा के अंतिम समय में उन्ही की बर्थ ऑफ़ डेट के लिए विवाद हुआ था ऐसे वह पहले कमांडो थे जिसने सरकार को भी कोर्ट में खड़ा कर दिया था ।1965 की राष्ट्रीय डिफेंस अकादमी में वीके सिंह की जन्म तिथि गलत दर्ज हो जानेकी वजह से उनको अपनी और से सरकार पर केश दाखिल करना पड़ा था।कोर्ट का फैसला ऐसा था की वीके सिंह की वास्तविक बर्थ ऑफ़ डेट लेकर कोई शिकायत नहीं है लेकिन जिसने उनकी जन्म तिथि को दर्ज किया है उनकी भूल थी।

vijaita singh को उनके सेना सेवा समय में अति विशिष्ट सेवा मेडल , परम विशिष्ट सेवा मेडल और युद्ध सेवा मेडल से सन्मान दिया गया था। kay v singh को युद्ध कौशल कॉलेज ऑफ़ अमेरिकी में शिक्षा लेने का भी अवसर मिला था।31 मई 2012 के दिन जनरल vk singh ने भारतीय सेना प्रमुख पद से रिटायर हो गए। प्रमुख का कार्य काल का समय 26 महीने का रहा था।

इसे भी पढ़े :- साजिद नडियादवाला की जीवनी

vk singh का राजनीतिक सफर –

अन्ना हजारे की देख भाल से चलाये जाने वाला भ्रष्टाचार मिटने का आंदोलन में वीके सिंह ने अपना योगदान दिया था क्योकि उन्हों ने रिटारमेंट लेने के बाद प्रजा कल्याण के कार्य करना चाहते थे।1 march 2014 के दिन उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को समर्थन दे दिया और गाजियाबाद से लोकसभा चुनाव जित के सांसद और केंद्र सरकार के राज्य मंत्री है। पूर्व सेनानायक जनरल वीके सिंह ने इक राजनीती मीटिंग में कहा था की 1984 के वर्ष में स्वर्ण मंदिर पर हुए आतंकी हुमलो के आतंकवादियों के साफ करने के लिए सरकार ने जो ऑपरेशन ब्लू स्टार चलाने का फैसला लिया था वह फैसला ‘जल्दबाजी में लिया गया राजनीतिक निर्णय’ था।

ऑपरेशन ब्लू स्टार के वक्त मेजर की पदवी संभाले वीके सिंह ने कहा था की भारतीय सेना को इस ऑपरेशन को अंजाम न देने की चाह थी लकिन सरकार के दबाव की वजह से सबकुछ करना पड़ा था।जनरल सिंह ने कहा कि सर्कार का स्वर्ण मंदिर में आर्मी भेजने का विचार जल्दबाजी में किया गया था अपने ही देश के लोगो के सामने हथियार उठाना जनरल सिंह को कभी पसंद नहीं आया था फिर भी राजनेताओ की सुचना अनुसार करना पड़ा था ।

चीन के बारे में वीके सिंह की किताब –

चीन देश भले ही अपने आपको चालबाज समझता हो मगर सच तो यह है की भारत के सामने चीन की चाल हमेशा नाकामियाब ही रहती है। भारत देश की चीन बोडर पर चीन आंखें रखे बैठा है और घुस पेठ की कोशिश हमेश करता रहता है तो भारत देश की सेना भी आज उससे आंख लाल करके खड़ा है।इसा तो कई बार हुआ है की दोनों देश आमने सामने आजाते है बार बार 1967 की साल में चीन और भारत युद्ध करने की पूरी तैयारी करचुके थे। 

इस बात साडी दुनिया भर के देशो को याद है तो china कैसे भूल सकता है।हमारे भारतीय सेना जवानों ने चीन के बंकरो में घुसकर china के तक़रीबन 300 सैनिकों को हमेशा के लिए मौत की नींदमें धकेल दिया था। उसके बारे में पूर्व मेजर जनरल वीके सिंह ने एक पुस्तक भी लिखी है। इसमें सिघ साहब ने भारतीय सेना के 12 सैनिकों की जीवन के बारे में और 1967 के china के साथ का गौरवशाली युद्ध कली भी कुछ हक़ीकते बताई है।

वीके सिंह मिनिस्टर – ( vk singh minister )

dr vk singh 1 मार्च 2014 को भारतीय जनता पार्टी में ज्वाइन हुएऔर 2014 की साल में गाजियाबाद से लोकसभा चुनाव में पहली बार चुनाव में उतरे और विजयी हुए भी हुए। kay v singh को बैडमिंटन , गोल्फ , पोलो और टेनिस के शिवा घोड़े सवारी का भी शोख है। bay of sighs देखा जाये तो 2019 में vk सिंह दूसरी बार गजिया बाद लोकसभ चुनाव जित के सांसद बने है और भारत देश की सेवा में कार्यरत है।

इसे भी पढ़े :- दिव्या उन्नी की जीवनी

vk singh Social Media Profile –

Facebook – https://www.facebook.com/generalvksingh/

Email Id – Not Available

WhatsApp Number – Not Available

Official Website – Not Available

Twitter – https://twitter.com/Gen_VKSingh?

vk singh Instagram –

VK Singh Life Style Video –

इसे भी पढ़े :-भूषण कुमार की जीवनी

वीके सिंह के बारे में रोचक तथ्य – VK Singh

Interesting Facts

  • आजाद भारत के 26वें थल सेनाध्यक्ष जनरल सिंह की सबसे बड़ी ताकत और खासियत उनकी ईमानदारी को बताया जाता है।
  • हरियाणा राज्य के भिवानी में जन्मे वी के सिंह के पिताजी और दादाजी भारतीय सेना में ऑफिसर हुआ करते थे।
  • नागरिकता कानून CAA पर सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने विरोध करते कॉलेजों के विद्धार्थी को लेकर बयान दिया था ‘आर्मी चीफ के बयान में मुझे कोई राजनीति नहीं दिखती है
  • पूर्व सेना प्रमुख जनरल वी के सिंह अपने सेना सेवा  वक्त पर लगातार विवादों से जुड़े रहेते थे। उन्हि कि जन्मतिथि को लेकर बहुत ही विवाद रहे थे। 
  • पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वी.के. सिंह को सेना के वाहनों की खरीदारी के लिए 14 करोड़ की घूस देने की ऑफर हुई थी लेकिन उन्होंने अपने ईमान को नहीं बेचा था। 
  • भारतीय वायु सेना में पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वी.के. सिंह पर 126 लड़ाकू विमानों को  खरीदने के लिए गड़बड़ि का आरोप लगा था। 

वीके सिंह के कुछ प्रश्न –

1 .वी.के सिंह के पास अभी कौन सा मंत्रालय है ?

पूर्व जनरल वी के सिंह के पास अभी केंद्र सरकार के मंत्री पद है। 

2 .वी.के सिंह कोन है ?

भारत देश के 26वें थल सेनाध्यक्ष ईमानदारी की मिसाल और भारतीय राजनेता है।  

3 .वी.के सिंह कब मंत्री बने थे ?

1 मार्च 2014 के दिन भारतीय जनता पार्टी से गाजियाबाद लोकसभा चुनाव में विजयी होके मंत्री बने है। 

4 .वी.के सिंह का अभ्यास क्या है ? 

vk सिंह ने अपनी पढाई राजस्‍थान राज्य के पिलानी जिल्ले में स्थित बिड़ला महाविध्यालय से शिक्षा प्राप्त की है।

5 .वी.के सिंह के पिताजी क्या करते थे ? 

जनरल विजय सिंह के पिता और दादाजी भी सेना में अपनी सेवा प्रदान किया करते थे। 

6 .वी.के सिंह की धर्म पत्नी का नाम क्या है ?

जनरल विजय सिंह की पत्नी का नाम भारती सिंह है।

इसे भी पढ़े :- सुशांत सिंह राजपूत की जीवनी

Conclusion –

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको मेरा यह आर्टिकल VK Singh Biography बहुत अच्छी तरह पसंद आया होगा। इस लेख के द्वारा हमने vk singh son और general vk singh family के सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है अगर आपको इस तरह के अन्य व्यक्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहते है। तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है। और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Sorry Bro
%d bloggers like this: